बाला मिश्रा हत्याकांड में चार लोगों पर दर्ज हुआ मुकदमा - BNN News

Latest

23 Jul 2019

बाला मिश्रा हत्याकांड में चार लोगों पर दर्ज हुआ मुकदमा

File Photo | Fir Copy


बेनीपट्टी : मधुबनी जिले में अपराध की दुनिया का कुख्यात माने जाना वाला बाला मिश्रा उर्फ़ निशांत हत्याकांड में चार लोगों पर नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई है. बेनीपट्टी के लोरिका गांव निवासी बाला मिश्रा के पिता अनिल कुमार मिश्र ने दरभंगा जिले के सिंहवाड़ा थाना में आवेदन देकर साहरघाट थाना क्षेत्र के डुमरा गांव के रामलखन मुखिया के पुत्र मुकेश मुखिया उर्फ़ सूर्या मुखिया, बेनीपट्टी थाना क्षेत्र के उच्चैठ गांव के मुरली राय के पुत्र बरुण राय, सीतामढ़ी जिले के बालमुकुन्द, जयनगर थाना क्षेत्र के दुल्लीपट्टी निवासी राजेन्द्र झा के पुत्र सत्तन झा उर्फ़ पुरुषोत्तम झा सहित कुछ अज्ञात व्यक्तियों पर अपने बेटे बाला मिश्रा उर्फ़ निशांत की हत्या में शामिल होने का आरोप लगाते हुए प्राथमिकी दर्ज करवाई है. सिंहवाड़ा थाना  को दिए गये आवेदन के आलोक में विभिन्न धाराओं के तहत कांड संख्या 112/19 दर्ज की गई है. 


जानकारी हो कि 16 जुलाई की सुबह बेनीपट्‌टी थाना क्षेत्र के लोरिका गांव निवासी बाला मिश्रा का शव दरभंगा-मुजफ्फरपुर एनएच 57 किनारे अतरबेल टारा टोला के निकट पानी में उपलाता हुआ मिला था. मृतक के पास से बरामद पहचान पत्र से उसकी शिनाख्त की गई थी. 

बता दें कि पुलिस सूत्रों के अनुसार बाला मिश्र उर्फ निशांत कुमार मिश्र का बड़ा आपराधिक इतिहास रहा है. बाला मिश्रा को मधुबनी के तत्कालीन एसपी दीपक बरनवाल के नेतृत्व में गठित टीम ने 2017 में गिरफ्तार किया था. बाला मिश्रा की गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में मिली सुराग के आधार पर उसी रात कुख्यात अपराधी रंजीत डॉन को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया था. रंजित डॉन बाला मिश्रा का बहुत ही करीबी माना जाता था. दोनों ने कई अपराधिक मामलों को एक साथ अंजाम दिया था. बाला मिश्रा पर मधुबनी जिले के बेनीपट्टी समेत कई थानों में उसके खिलाफ हत्या, लूट, रंगदारी के दो दर्जन से अधिक मामले उस पर दर्ज थे. बेनीपट्टी थाना कांड संख्या 195/16, कलुआही थाना में लूट के लिये कांड 46/16, पंडौल में लूट के लिये कांड संख्या 6/17, जयनगर थाना में हत्या मामले में कांड संख्या 35/17, राजनगर थाना में आर्म्स एक्ट में कांड संख्या 32/17, साहरघाट थाना में लूट के लिये कांड संख्या 40/17, राजनगर में ही रंगदारी के लिये कांड संख्या 69/17,  खजौली थाना में लूट के लिये ही कांड संख्या 35/17 सहित खजौली के तत्कालीन थानाध्यक्ष ब्रजेश कुमार पर गोली चलाने का आरोप भी उस पर था. 


पिछले महीने ही जेल से जमानत पर रिहा होने के बाद बाला मिश्रा फिलहाल किसी आपराधिक कांड में शामिल नहीं था. हालांकि बताया जा रहा है कि हाल के दिनों में वह शराब के कारोबार से जुड़ गया था जो बाला मिश्रा की मौत का कारण बना. हालांकि इस बात की सत्यता क्या है यह जांच के बाद ही साफ़ हो पायेगी इधर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

No comments:

Post a Comment

फेसबुक पर रेगुलर न्यूज़ अपडेट्स पाने के लिए पेज Like करें व अधिक से अधिक शेयर करें