मधुबनी। शुक्रवार को चतुर्थ कृषि रोडमैप के लिए जिला स्तरीय कार्यशाला का शुभारंभ डीडीसी विशाल भारद्वाज सहित पदाधिकारियों ने दीप जलाकर शुरुआत की।कृषि रोडमैप निर्माण कार्यशाला को संबोधित करते हुए डीडीसी ने किसानों एवं पदाधिकारियों को कहा कि आगामी पांच वर्ष के लिए कृषि, उद्मान,पशुपालन, मत्स्य सहित कृषि से जुड़े विभागों के विशेषज्ञ जमीनी स्तर पर किसानों के आर्थिक उत्थान का समुचित सुझाव को स्वीकार किया जाना है।

1

उन्होंने जिला के भौगोलिक परिस्थितियों के अनुकूल योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए बेहतर सुझाव की जरूरत है।कृषि रोडमैप निर्माण के लिए जिले के सभी प्रखंडों से पांच नये प्रगतिशील किसानों के सुझाव मौखिक एवं लिखित सुझाव को शामिल किया गया।

किसानों के सुझाव को आमंत्रित कर कृषि विशेषज्ञों एवं वैज्ञानिकों ने हरेक बिन्दुओं पर अपने विचार व्यक्त किया।प्रभारी जिला कृषि पदाधिकारी सह अभियांत्रिक उप निदेशक दिलीप कुमार शर्मा ने भाग लेने वाले किसानों एवं पदाधिकारियों को जिला में आगामी पांच वर्षों तक योजनाओं को पंचायत स्तर पर प्रभावी बनाने एवं बेहतरी के लिए निवेदन किया गया।

2

हालांकि भाग लेनेवाले किसानों ने बताया कि कृषि रोडमैप निर्माण में नये नवाचार प्रस्तुत करने वाले कृषकों को शामिल करना था।लेकिन कुछ पुराने किसान पूर्व से आमंत्रित रोडमैप में दबाव बनाकर भाग लेने के प्रति किसानों को आक्रोश था।कृषि पदाधिकारी ने वैसे किसानों को सुझाव नही देने की जानकारी दिया।

प्रमंडलीय संयुक्त कृषि निदेशक शष्य एवं कृषि पदाधिकारियों ने कृषिरोड मैप के हर पहलू के बारीकी पर विचार विमर्श कर निचोड़ निकालते रहे।कृषि रोडमैप के सुझाव का कार्यक्रम वर्ष 2023 ई. के मार्च माह तक तकनीकी एवं जमीनी स्तर के सुझाव शामिल करने का आह्वान किया गया।समेकित रुप से रोडमैप में पंचायत स्तर पर कृषि विभाग के अलावा उद्मान,मत्य,पशुपालन, सांख्यिकी, गब्य,सहकारिता, वन विभाग एवं सिंचाई विभाग की कार्य शक्ति पंचायत स्तर कार्यरत किसान सलाहकार को कार्य दायित्व देने का सुझाव दिया गया।

ताकि किसानों को गांव में ही एक मजबूत कृषि प्रसार कर्मी के कार्य को किसान सलाहकार को पद स्थापित किया जा सके।जंगल जानवरों से नुकसान, कृषि यंत्र बैंक, मिट्टी जांच एवं सहकारी बाजार सहित विभिन्न मौलिक समस्या का निजात चतुर्थ कृषि रोडमैप में लागू करने का किसानों ने राय जाहिर किया ।

कृषि रोडमैप के एक दिवसीय कार्यक्रम में जिला सहकारिता, सांख्यिकी, पशुपालन, मत्स्य,गव्य,आत्मा उप निदेशक, मिट्टी रसायनज्ञ सहित अनुमंडल एवं कृषि पदाधिकारी ने भाग लिया।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here




ई-मेल टाइप कर डेली न्यूज़ अपडेट पाएं

BNN के साथ विज्ञापन के लिए Click Here

Previous Post Next Post