मधुबनी। जिले में अभी मिशन परिवार विकास अभियान चलाया जा रहा है अभियान 5 सितंबर से शुरू होकर 24 सितंबर तक जारी रहेगा इस अवधि में विभाग द्वारा कई कार्यक्रमों का आयोजन कर लोगों को परिवार नियोजन से संबंधित जानकारी दी जा रही है इसी कड़ी में शुक्रवार को सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा ने मिशन परिवार विकास अभियान के तहत जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. जागरूकता रथ से जिले के सभी 21 प्रखंडों में माईकिंग कर  परिवार नियोजन के स्थाई एवं अस्थाई साधनों की जानकारी दी जाएगी।


5 सितंबर से 24 सितंबर तक परिवार नियोजन पखवारा का आयोजन : 


मिशन परिवार विकास  अभियान के तहत 5 से 11 सितंबर तक दंपति संपर्क पखवारा तथा 12 सितंबर से 24 सितंबर तक परिवार नियोजन सेवा  पखवारा का आयोजन किया जा रहा है. दंपति संपर्क पखवाड़े के दौरान आमजन में जागरूकता लाने के लिए सही उम्र में शादी, शादी के बाद कम से कम 2 साल के बाद पहला बच्चा, दो बच्चों में कम से कम 3 साल का अंतराल एवं प्रसव के बाद या गर्भपात के बाद परिवार नियोजन के स्थायी एवं अस्थायी साधनों पर जोर दिया जाएगा। वहीँ परिवार नियोजन सेवा सप्ताह के दौरान प्रथम रेफरल इकाइयों में नसबंदी शिविर का आयोजन किया जाएगा।

2


प्रसव के बाद महिला नसबंदी एवं कॉपर- टी पर विशेष ध्यान: 


 डॉ.झा ने बताया संस्थागत प्रसव के बाद लगभग 60 प्रतिशत तथा सुरक्षित गर्भपात के बाद लगभग 90 प्रतिशत दम्पतियों में परिवार नियोजन के लिए मांग है। इसे ध्यान में रखते हुए प्रसव के बाद महिला नसबंदी एवं कॉपर- टी संस्थापन पर अभियान के दौरान विशेष बल दिया जाएगा। इसके लिए प्रसव कक्ष में परिवार कल्याण परामर्शी, एएनएम, स्टाफ नर्स के माध्यम से प्रसव एवं गर्भपात के लिए आए हुए इच्छुक महिलाओं को उत्प्रेरित करते हुए सुविधा प्रदान करायी जाएगी। 


अभियान में जनप्रतिनिधियों की सहभागिता जरूरी :


आरोग्य दिवस के दौरान रैली का आयोजन एवं नवदंपति या एक संतानवाले दंपत्ति जोड़े के साथ एएनएम, आशा फैसिलिटेटर, आशा, कम्युनिटी हेल्थ कोऑर्डिनेटर  द्वारा पंचायतीराज प्रतिनिधि एवं अन्य प्रभावशाली व्यक्तियों की उपस्थिति में बैठक की जाएगी। इस बैठक के दौरान लाभार्थियों को परिवार नियोजन से संबंधित जानकारी दी जाएगी। ताकि अधिक से अधिक लोग परिवार नियोजन की सेवाओं का लाभ उठा सकें । इस अभियान में पंचायतीराज प्रतिनिधियों का सहयोग भी लिया जाएगा।


अधिक से अधिक लोगों जागरूकता करना अभियान का उद्देश्य :


सिविल सर्जन डॉ सुनील कुमार झा  ने बताया कि इस अभियान को संचालित करने का उद्देश्य परिवार नियोजन सेवा का विभिन्न संचार माध्यम से समुदाय स्तर तक पहुंच को बेहतर बनाना है। ताकि नवदंपति या एक संतान वाले दंपत्ति जोड़े के बीच गर्भधारण में अंतराल एवं स्वस्थ जीवन को अपनाने के संबंध में जागरूकता पैदा किया जा सके।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here




ई-मेल टाइप कर डेली न्यूज़ अपडेट पाएं

BNN के साथ विज्ञापन के लिए Click Here

Previous Post Next Post