Ticker

6/recent/ticker-posts

बेनीपट्टी में नर्सिंग होम की हुई जांच, जांच में हुए कई खुलासे



बेनीपट्टी(मधुबनी)। बेनीपट्टी में अवैध रूप से संचालित आठ नर्सिंग होम व निजी क्लिनिक की जांच की। इस दौरान अलग-अलग टीम ने बेनीपट्टी अंबेडकर चौक स्थित मां भगवती सेवा सदन, मनोकामना हेल्थ केयर सेंटर, प्रिंस हेल्थ केयर सेंटर, आकाश हेल्थ केयर, लाइफ हेल्थ केयर सेंटर, मां भगवती हास्पिटल, कटैया रोड में संचालित ज्योति मेमोरियल हास्पिटल व अनुमंडल रोड में संचालित शिवम सेवा संस्थान की जांच की। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, अवैध रूप से संचालित कई नर्सिंग होम के संचालकों के द्वारा जांच की आशंका के मद्देनजर रखते हुए सभी नर्सिंग होम के संचालकों ने अपने-अपने क्लिनिकों और नर्सिंग होम के भवनों से बोर्ड भी हटा लिया गया था. कई क्लिनिकों और नर्सिंग होम का नाम बदलकर गोरखधंधा किया जा रहा है। 


इस क्रम में जांच टीम को ज्योति मेमोरियल हास्पिटल कटैया रोड खोजने पर भी नहीं मिला। स्वास्थ्य विभाग की जांच शुरू होने से अवैध व फर्जीवाड़े रूप से संचालित नर्सिंग होम के संचालकों में हड़कंप मच गया है। 



बता दें कि विगत फरवरी महीने में बेनीपट्टी के पीएचसी प्रभारी डॉ. एसएन झा ने बेनीपट्टी में नियम विरुद्ध चल रहे 19 क्लिनिकों व जांच घरों को नोटिस देकर अविलंब बंद करने का आदेश दिया था। वर्ष 2019 में भी जांच के दौरान बेनीपट्टी में 9 नर्सिंग होम को मानक के विपरीत पाया गया था।


पीएचसी प्रभारी ने विगत फरवरी महीने में बेनीपट्टी के ऐसे 19 नर्सिंग होम व जांच घरों को दिए गये नोटिस में स्पष्ट रूप से निर्देशित किया गया था। साथ ही कहा गया था कि भविष्य में यह खुला हुआ पाया गया तो विधि-सम्मत क़ानूनी कार्रवाई की जायेगी। हिदायत और सख्त निर्देशों के बावजूद अब तक  एक भी अवैध और फर्जी नर्सिंग होम व क्लिनिक का संचालन बंद नहीं हुआ है। इस तरह के अवैध व फर्जी नर्सिंग होम, क्लिनिक व जांच कर सैंकड़ों की संख्या में अनुमंडल क्षेत्र में संचालित है। प्रशासन के नाक के नीचे चल रहे इतने सारे अवैध और फर्जी नर्सिंग होम, क्लिनिक व जांच घर स्वास्थ्य विभाग के लिए बड़ी चुनौती साबित हो रहा है।


आपको बता दे कि उक्त जांच बेनीपट्टी के बुद्धिनाथ झा के द्वारा किये गए परिवाद के आलोक में की गई है। 


जांच टीम में अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी मधुबनी, संचारी रोग पदाधिकारी मधुबनी, गैर संचारी रोग पदाधिकारी मधुबनी, भेक्ट वार्न डिजिज पदाधिकारी मधुबनी, पीएचसी प्रभारी रहिका, बिस्फी, मधवापुर व हरलाखी भी शामिल थे।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here

Post a Comment

0 Comments