खजौली (मधुबनी)। जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने मधुबनी जिले के खजौली प्रखंड अंतर्गत मरूकिया ग्राम में ड्रेनेज चैनल की खुदाई और दो अदद बॉक्स कल्वर्ट का लोकार्पण किया तथा सोनी नदी पर गेटेड वीयर के निर्माण का कार्यारंभ किया।

1

जल संसाधन विभाग की इस योजना में परोहा धार के अवरुद्ध प्रवाह को पश्चिमी कोसी मुख्य नहर के दायें किनारे में विंदु दूरी 116.78 से 124.40 तक के समानान्तर ड्रेनेज चैनल बनाकर सोनी नदी, जो पश्चिमी कोसी मुख्य नहर के विंदु दूरी 116.68 पर निर्मित सीडी से गुजरती है, में मिलाने का प्रावधान किया गया है। ड्रेनेज चैनल के अलाइनमेंट में पश्चिमी कोसी मुख्य नहर के विंदु दूरी 123.60 एवं 117.80 पर दो अदद बॉक्स कल्वर्ट का भी निर्माण किया गया है। इस योजना से चतरा एवं गोबरौरा पंचायत के मरूकिया गोबरौरा, भटचौरा, औरही, सिधपकला आदि गांवों के किसानों को सिंचाई सुविधा मिलेगी।

2

संजय कुमार झा ने सोनी नदी पर 9 मीटर के गेटड वीयर के निर्माण कार्य का कार्यारंभ भी किया। सोनी नदी में अक्टूबर-नवंबर में पानी घट जाने के बाद क्षेत्र के किसानों को सिंचाई सुविधा नहीं मिल पाती है। इस समस्या के निदान के लिए सोनी नदी पर गेटेड वीयर का निर्माण कर पुरानी मृतप्राय धार में हेड रेगुलेटर से पानी प्रवाहित किया जाएगा। साथ ही नदी के दोनों ओर छोटा बांध का निर्माण कर आउटलेटों के द्वारा पानी नदी के दोनों ओर के खेतों में उपलब्ध कराया जा सकेगा। इससे खजौली प्रखंड के मरूकिया, चतरा गोबरौरा, बाबूबरही प्रखंड के भटचौरा, बरुआर एवं चौराही तथा लदनिया प्रखंड के सिधपकला गांव के किसान लाभान्वित होंगे। इस योजना का कमांड क्षेत्र 2050 हेक्टेयर है और इसे 'हर खेत तक सिंचाई का पानी' निश्चय योजना के तहत कार्यान्वित किया जा रहा है।


इस मौके पर मरूकिया में आयोजित सभा को संबोधित करते हुए संजय झा ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निश्चय के अनुरूप वर्ष 2025 तक बिहार के हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचेगा। इस महत्वाकांक्षी लक्ष्य को पूरा करने के लिए जल संसाधन सहित सभी संबंधित विभागों द्वारा तत्परता से कार्य किए जा रहे हैं। हर गांव तक सड़क और हर घर तक बिजली पहुंचने के बाद अब हर खेत तक सिंचाई का पानी पहुंचने से प्रदेश में विकास को नई गति मिलेगी और कृषि क्षेत्र का कायाकल्प होगा। उन्होंने कहा कि दशकों से अधूरी पड़ी पश्चिमी कोसी नहर परियोजना का काम मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर शुरू हुआ। इसके तहत बड़े पैमाने पर संरचनाओं का निर्माण हुआ और हो रहा है। इस वर्ष खरीफ सीजन में उग्रनाथ शाखा नहर सहित मधुबनी जिले के कई इलाकों में पहली बार नहर का पानी पहुंचा है। पश्चिमी कोसी नहर परियोजना को अगले वर्ष पूर्ण करने के लिए जल संसाधन विभाग तत्परता से कार्य कर रहा है। इस महत्वाकांक्षी नहर परियोजना से मधुबनी जिले के दो लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिलेगी।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here



ई-मेल टाइप कर डेली न्यूज़ अपडेट पाएं

BNN के साथ विज्ञापन के लिए Click Here

Previous Post Next Post