मधुबनी। लेट्स इंस्पायर बिहार  के तत्वाधान में  मधुबनी महिला अध्याय के द्वारा श्रावण मास में मिथिला के नवविवाहितों का प्रमुख पर्व मधुश्रावणी के शुभ अवसर पर मैथिलानी समूह मधुबनी के द्वारा मिथिला वाटिका मधुबनी में मिथिला संस्कृति से जुड़ी हुई, मधुश्रावणी पर्व पर गीत  संगीत  व झिझिया कार्यक्रम का आयोजन रविवार  को किया गया. 

1

कार्यक्रम की संचालिका डॉ अनीता झा ने बताया हमारे समूह के माध्यम से अनेकों कार्य सामाजिक हित में किए जाते हैं उसमें चाहे बाढ़ ग्रसित क्षेत्र में सहायता पहुंचाना विधवा महिलाओं के लिए सहयोग करना विद्यार्थियों को शिक्षा के लिए सहयोग करना या किसी भी प्रकार की जरूरत से कोई व्यक्ति अगर जूझ रहा है तो उनमें हमारा मैथिलानी समूह मिलकर सहयोग करता है।

2

आज जो यह कार्यक्रम हुआ है इसमें चित्रकला प्रतियोगिता नृत्य प्रतियोगिता संगीत प्रतियोगिता व संस्कृत श्लोक प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया है मधुबनी जिला के दूर-दूर से महिलाएं उपस्थित हुई है।

सभी क्षेत्रों में जिन प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया उस में अव्वल आए प्रथम द्वितीय तृतीय  प्रतिभागियों को मोमेंटो मेडल व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया।


डॉक्टर अनिता  झा ने बताया मैथिलानी समूह पुनर महिलाओं का यह समूह है जो समाज के लिए देश के लिए कुछ करना चाहती है उनके पास हुनर तो है लेकिन प्लेटफार्म की कमी है तो हम उन्हें प्लेटफार्म देने का कार्य कर रहे हैं आइए हम सब मिलकर एक बेहतर समाज का निर्माण करें देश का निर्माण करें अपने परिवार के साथ साथ देश हित के लिए भी हमारा फर्ज बनता है कि हम कुछ करें अपने हुनर को दबाने से अच्छा निकालने की आवश्यकता है इसीलिए हम सब महिलाएं मेथिलानी  समूह के द्वारा सम्पूर्ण देश में कलाकारों को संस्कृति और संस्कारों से युक्त पर्व त्यौहार के अवसर पर परम्पराओं का निर्वहन करते है।


उन्होंने बताया कि मिथिलांचल के हृदय स्थली मधुबनी  में मधुश्रावणी के अवसर पर मैथिलानी  समूह के कलाकारों ने बेहतर प्रस्तुति से दर्शकों का मन मोहा ।

उन्होंने कहा कि मधुबनी जिला के के कलाकारों ने राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाई है ।

वहीं  ने बताया कि मधुश्रावणी पर्व में नवविवाहित कन्याओं द्वारा अपने पति के दीर्घायु जीवन के लिए पुरे पन्द्रह दिनों तक बिना नमक के भोजन कर नाग देवता की पूजा करती है ।

इसीलिए उन अविवाहित हूं बच्चों के लिए भी हम हर वर्ष या आयोजन करते हैं और बहुत खुशी मिलती है कि जो बेटियां हमारे बीच से किसी दूसरे गांव में बहू बनकर गई है वजह हमारे बीच आती है तो हमसे त्यौहार के तौर पर स्वागत करते हैं ।मधुश्रावणी पर हुआ गीत संगीत का कार्यक्रम


श्रावण मास में मिथिला के नवविवाहितों का प्रमुख पर्व मधुश्रावणी के शुभ अवसर पर मैथिलानी समूह मधुबनी के द्वारा मिथिला वाटिका मधुबनी में मिथिला संस्कृति से जुड़ी हुई, मधुश्रावणी पर्व पर गीत  संगीत  व झिझिया कार्यक्रम का आयोजन रविवार  को किया गया. 

कार्यक्रम की संचालिका डॉ अनीता झा ने बताया हमारे समूह के माध्यम से अनेकों कार्य सामाजिक हित में किए जाते हैं उसमें चाहे बाढ़ ग्रसित क्षेत्र में सहायता पहुंचाना विधवा महिलाओं के लिए सहयोग करना विद्यार्थियों को शिक्षा के लिए सहयोग करना या किसी भी प्रकार की जरूरत से कोई व्यक्ति अगर जूझ रहा है तो उनमें हमारा मैथिलानी समूह मिलकर सहयोग करता है।

आज जो यह कार्यक्रम हुआ है इसमें चित्रकला प्रतियोगिता नृत्य प्रतियोगिता संगीत प्रतियोगिता व संस्कृत श्लोक प्रतियोगिता का आयोजन भी किया गया है मधुबनी जिला के दूर-दूर से महिलाएं उपस्थित हुई है।

सभी क्षेत्रों में जिन प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया उस में अव्वल आए प्रथम द्वितीय तृतीय  प्रतिभागियों को मोमेंटो मेडल व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया।


डॉक्टर अनिता  झा ने बताया मैथिलानी समूह पुनर महिलाओं का यह समूह है जो समाज के लिए देश के लिए कुछ करना चाहती है उनके पास हुनर तो है लेकिन प्लेटफार्म की कमी है तो हम उन्हें प्लेटफार्म देने का कार्य कर रहे हैं आइए हम सब मिलकर एक बेहतर समाज का निर्माण करें देश का निर्माण करें अपने परिवार के साथ साथ देश हित के लिए भी हमारा फर्ज बनता है कि हम कुछ करें अपने हुनर को दबाने से अच्छा निकालने की आवश्यकता है इसीलिए हम सब महिलाएं मेथिलानी  समूह के द्वारा सम्पूर्ण देश में कलाकारों को संस्कृति और संस्कारों से युक्त पर्व त्यौहार के अवसर पर परम्पराओं का निर्वहन करते है।

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर रजनी महासेठ ने बताया कि मिथिलांचल के हृदय स्थली मधुबनी  में मधुश्रावणी के अवसर पर मैथिलानी  समूह के कलाकारों ने बेहतर प्रस्तुति से दर्शकों का मन मोहा ।

सहयोगी सोना झा ने  कहा कि मधुबनी जिला  के कलाकारों ने राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाई है ।

सदस्य ज्योति झा ने बताया कि मधुश्रावणी पर्व में नवविवाहित कन्याओं द्वारा अपने पति के दीर्घायु जीवन के लिए पुरे पन्द्रह दिनों तक बिना नमक के भोजन कर नाग देवता की पूजा करती है ।

इसीलिए उन अविवाहित हूं बच्चों के लिए भी हम हर वर्ष या आयोजन करते हैं और बहुत खुशी मिलती है कि जो बेटियां हमारे बीच से किसी दूसरे गांव में बहू बनकर गई है, वजह हमारे बीच आती है तो हमसे त्यौहार के तौर पर स्वागत करते हैं । रीना सर्राफ, सीमा झा, सुमिति राउत, समृद्धि पमनानी , सोनी झा, सपना बुबना, कुमकुम ,चांदनी ,रूबी ,पूनम अन्य मैथिलानी समूह के सहयोगी एवं सदस्य उपस्थित रहे।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here



ई-मेल टाइप कर डेली न्यूज़ अपडेट पाएं

BNN के साथ विज्ञापन के लिए Click Here

Previous Post Next Post