Ticker

6/recent/ticker-posts

बेनीपट्टी के यश झा के लेख को देश में मिला 2nd स्थान, शिक्षा मंत्री ने दी बधाई, 3 लाख का स्कॉलरशिप भी

बेनीपट्टी (मधुबनी) : मधुबनी जिले के बेनीपट्टी प्रखंड अंतर्गत ब्रह्मपुरा गांव निवासी यश झा ने एक बार फिर से अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया है। यश ने केंद्र सरकार के युवा लेखक प्रोत्साहन योजना के तहत आयोजित की गई प्रतियोगिता में देश भर में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। जिसमें 18 हज़ार से अधिक लोग शामिल हुए थे, जिनमें 75 युवाओं का चयन होना था। उन चयनित 75 युवाओं में यश झा ने दूसरा स्थान प्राप्त किया है। इस मुकाम को हासिल करने वाले यश झा को अब केंद्र सरकार के तरफ से हर महीने 50 हज़ार रूपये की स्कॉलरशिप मिलेगी, जो कि 6 महीने तक मिलनी है, यानी यश को कुल 3 लाख रूपये की स्कॉलरशिप मिलेगी। यश द्वारा लिखी गई लेख को युवा दिवस 2022 को एनबीटी, भारत द्वारा प्रकाशित भी किया जायेगा। 

यश झा को यह उपलब्धि अपने लेख 'बाबू दाई अम्मा : मीना जंग जिंदगी से' के लिए मिला है। जिसकी घोषणा आज हुई है, इस मौके पर यश झा की देश के शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, केंद्रीय श्रम, रोजगार तथा वन व पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव व नेशनल बुक ट्रस्ट के डायरेक्टर युवराज मलिक से ऑनलाइन मीटिंग के जरिये बात भी हुई, शिक्षा मंत्री ने यश के लेख के चयन पर बधाई व उज्जवल भविष्य की कामना की है।



बेनीपट्टी के ब्रह्मपुरा गांव निवासी रिटायर आर्मी योगानंद झा के पौत्र एवं व्यवसायी दीपक झा के पुत्र यश झा महज 15 वर्ष की उम्र में इस सफलता को हासिल किया है। यश झा के इस उपलब्धि से परिवार के लोग फुले नहीं समा रहे, वहीं यश झा ने फिर से एक बार अपने क्षेत्र सहित जिले वासियों को गर्व करने का मौक़ा दिया है। इससे पहले यश ने कोरोना काल में सोशल मीडिया का सदुपयोग कर एक बुजुर्ग महिला तक सोशल मीडिया हैशटैग चलाकर मदद पहुंचवाई थी, जिसकी वजह से महिला की जान बच सकी।

पहले की खबर - बेनीपट्टी के यश झा ने हैशटैग से बुजुर्ग तक पहुंचाई थी मदद, अब 8 जून को न्यूजीलैंड की PM करेंगे बात

यश के इस नेक काम की सराहना देश ही नहीं बल्कि विदेशों तक हुई। न्यूजीलैंड की एंबेसी ने यश के काम की तारीफ करते हुए उन्हें एक प्रोग्राम में आने का न्योता दिया था। साथ ही यश झा को न्यूजीलैंड की पीएम जैसिंडा अर्डर्न से बातचीत का भी मौका मिला और न्यूजीलैंड के सरकारी कार्यक्रम ‘पॉजिटिव मीडिया’ में शामिल किया गया। 


क्या है YUVA : युवा लेखकों को परामर्श Mentoring Young Authors योजना ?



पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 के तहत युवाओं के सशक्तिकरण और एक सीखने वाला इकोसिस्टम बनाने के उद्देश्य से युवा पाठकों/सीखने वालों के लिए YUVA - युवा लेखकों को परामर्श Mentoring Young Authors योजना शुरू की गई, जिसमें देश की आजादी की 75 वर्षगांठ को केंद्र में रखते हुए युवा लेखकों से देश के आज़ादी से जुड़े देश के गुमनाम नायक, राष्ट्रीय आंदोलन के बारे में अल्पज्ञात तथ्य, राष्ट्रीय आंदोलन में विभिन्न स्थानों की भूमिका, राष्ट्रीय आंदोलन के राजनीतिक, सांस्कृतिक, आर्थिक या विज्ञान संबंधी पहलुओं से संबंधित नए दृष्टिकोणों को सामने लाने वाले 5000 शब्दों की पांडुलिपि कहानियों लेख को शामिल किया गया था।

यह प्रतियोगिता  4 जून से 31 जुलाई 2021 तक चली। प्रतियोगिता में देश भर से MyGov पर अखिल भारतीय प्रतियोगिता के माध्यम से आये लगभग 18 हज़ार से अधिक लेख आवेदन में कुल 75 लेखकों का चयन किया गया है। जिसमें मधुबनी जिले के बेनीपट्टी प्रखंड अंतर्गत ब्रह्मपुरा गांव निवासी यश झा ने अपनी के लेख बाबू दाई अम्मा : मीना जंग जिंदगी से को पुरे देश में दूसरा स्थान मिला है। 

जिसके बाद अब यश झा को नेशनल बुक ट्रस्ट इंडिया द्वारा दो सप्ताह का राइटर्स ऑनलाइन कार्यक्रम में प्रशिक्षण मिलेगा वहीं चयनित यश झा को साहित्यिक उत्सव, पुस्तक मेला, वर्चुअल बुक फेयर, सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि जैसे विभिन्न अंतरराष्ट्रीय आयोजनों में संवाद के माध्यम से अपनी समझ का विस्तार करने और अपने कौशल को निखारने का अवसर मिलेगा।

जिसमें मेंटरशिप योजना के तहत मेंटरशिप के अंत में यश को 6 महीने (50,000 x 6 = 3 लाख रुपये) की अवधि के लिए प्रति माह 50,000 रुपये प्रति माह के मुताबिक समेकित छात्रवृत्ति का भुगतान किया जाएगा। वहीं मेंटरशिप कार्यक्रम के तहत यश झा द्वारा लिखी गई लेख को युवा दिवस 2022 को एनबीटी, भारत द्वारा प्रकाशित की जाएगी। और मेंटरशिप कार्यक्रम के अंत में पुस्तक के सफल प्रकाशन पर यश को 10% की रॉयल्टी भी मिलेगी।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here

Post a Comment

0 Comments