मधुबनी : बाबूबरही थाना क्षेत्र के घोंघौर गांव में पिछले चार दिनों से ज्योति झा नाम की एक लड़की खुद को सामाजिक रूप से पत्नी का हक़ दिलाने के लिए धरने पर बैठी हुई है, लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है। लड़की कलुआही थाना क्षेत्र के करमौली गांव की रहने वाली है।

ज्योति झा का आरोप है कि घोंघौर गांव का माधव झा जो कि खुद को बीजेपी के पूर्व मंत्री व विधायक विनोद नारायण झा का भाई बताता है, उसका ज्योति के साथ 2018 से प्रेम प्रसंग चल रहा था। उस समय ज्योति एमबीबीएस की तैयारी कर रही थी और मां-पिता के साथ चंडीगढ में रहती थी, जिसके बाद दोनों ने दो जुलाई 2019 को चंडीगढ के शिव मंदिर में शादी कर ली, बाद में सामाजिक बदनामी के चलते रीति-रिवाज से विवाह की सहमति दोनों परिवार में बनी, लेकिन लड़का पक्ष शादी से मुकर गया।

यह भी पढ़ें:  S.P ने किया बेनीपट्टी थाना के अधिकारियों के साथ समीक्षा, कहा, भूमि विवाद का हो त्वरित निराकरण

ज्योति ने बताया कि उसके गर्भ में छह माह का बच्चा भी पल रहा है और अब माधव झा उसे अपनाने से इंकार कर रहा है, जिसके कारण वह चार दिनों से माधव झा के घर के बाहर चार दिनों से धरने पर बैठी हुई है लेकिन थाना पुलिस से उसे कोई भी मदद नहीं मिल पा रही है। माधव झा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से भी जुड़ा रहा है। 2018 में उसनें जेएन कॉलेज मधुबनी से ABVP से छात्र संघ का चुनाव भी लड़ा था


ज्योति झा ने इस मामले में बेनीपट्टी विधायक विनोद नारायण झा सहित उनके परिवार के कई सदस्यों का नाम लेते हुए मामले को प्रभावित करने का आरोप लगाया है। ज्योति ने यह भी बताया कि वह चार दिनों से यहां बैठी है लेकिन किसी मीडिया अखबार चैनल ने मेरी खबर नहीं ली ना ही थाने में मेरा मामला दर्ज किया जा रहा है।


इधर पीड़िता ज्योति झा ने साक्ष्य के रूप में माधव झा के साथ शादी से पहले व बाद की कई तस्वीरें और वीडियो भी दिखा रही है, जिसमें वह मांग में सिंदूर लगाये माधव झा के साथ नजर आ रही है। ज्योति ने रोते हुए बताया कि शादी से पहले और शादी के कुछ दिन बाद तक मेरे और माधव झा के बीच गहरा प्यार था, लेकिन अचानक सब कुछ बदल गया। आज मेरे गर्भ में बच्चा पल रहा है तो उसनें मुझे अब पत्नी के रूप में अपनाने से इनकार कर दिया है।

 यह भी पढ़ें: बेनीपट्टी में विधुत विभाग के कार्यशैली से MLC नाराज 

ज्योति ने बताया कि माधव झा ने जब हमें समाज के सामने अपनाने से पल्ला झाड़ लिया तो वह चंडीगढ़ एसएसपी की शरण में गई थी। इसके बाद न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाया। न्यायाल का आदेश भी स्थानीय प्रशासन को सौंपा है। ज्योति खुद को एमबीबीएस की छात्रा बताते हुए कहती है कि इस कारण उनकी पढ़ाई बाधित हो गई। प्रशासनिक मदद नहीं मिलने पर शनिवार की शाम ज्योति के पेट्रोल छिड़ककर आत्मदाह करने की भी कोशिश की।


इधर, ज्योति झा के आरोपों का सामना कर रहे माधव झा ने मीडिया रिपोर्ट्स में सारे आरोपों को बेबुनियाद बताया है और ज्योति झा के द्वारा दिखाए जा रहे तस्वीर को एडिटेड बताया है। साथ ही माधव झा ने कहा है कि गांव की रंजिश को लेकर ज्योति को गांव के ही कुछ लोग भड़का कर योजनाबद्ध तरीके से इन्हें बदनाम करने की साजिश रची गई है। आगे माधव झा ने कहा है कि ज्योति का ननिहाल घोंघौर है। इसी क्रम में उससे बातें होती रहती थी, ज्योति झा के परिवार की ओर से शादी का प्रस्ताव जरूर आया, लेकिन घरवालों ने शादी से मना कर दिया। कहा कि कहा कि प्रताड़ना व मानहानि को लेकर वे भी धरना पर बैठेंगे।

इधर, सदर डीएसपी कामिनी बाला ने कहा कि ज्योति के पास शादी का या फिर न्यायालय का कोई ऑथेंटिक पेपर नहीं है और न ही स्थानीय स्तर पर कोई मामला दर्ज कराया गया है, पड़ताल की जा रही है।

वही पीड़िता ज्योति झा का कहना है कि सदर डीएसपी कामिनी बाला सहित तमाम प्रशासन और मीडिया को पारिवारिक राजनितिक दबिश से प्रभावित किया जा रहा है। प्रशासन और सरकार हमें खुलकर बता दें कि हमें यहां न्याय नहीं मिलेगा, मैं जहर खाकर मर जाउंगी।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here





Previous Post Next Post