ज्योतिबा फुले ने वंचित समाज के लिए शिक्षा की जगाई थी अलख - BNN News

Breaking

12 Apr 2018

ज्योतिबा फुले ने वंचित समाज के लिए शिक्षा की जगाई थी अलख

बेनीपट्टी(मधुबनी)। ज्योतिबा फुले ने वंचित समाज में शिक्षा का अलख जगाने का काम किया था। जिसके कारण आज समाज में कुछ वंचित समाज के लोग शिक्षित हो पाए है। उन्होने शिक्षा के लिए क्रांति लाने का अथक प्रयास कर लोगों को शिक्षा का मूल स्वरुप के बारे में जानकारी देने का काम किया था। ज्योतिबा फुले ने ही समाज में व्याप्त पाखंडवाद व अंधविश्वास को तोड़ने के लिए लोगों को शिक्षित होने पर जोर दिया था। ये बातें अंबेडकर-कर्पूरी सामाजिक संस्थान के संस्थापक सह महादलित नेता रामवरण राम ने कही। बुद्धवार को बेहटा के सामूदायिक भवन पर अंबेडकर-कर्पूरी सामाजिक संस्थान के तत्वावधान में ज्योतिबा फुले की 191वीं जयंती पर पाखंड मिटाओं-संविधान बचाओं के विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसकी अध्यक्षता सुधीर पासवान ने की। वहीं संचालन प्रहलाद पासवान ने किया। रामवरण राम ने कहा कि समानता, भाईचारा, मानवीय मूल्यां के लिए संघर्ष कुर्बानी दी, आज बहुजन समाज पाखंड व अंधविश्वास के दरिया में डूबा जा रहा है। जिसे बहुजनों का भला नहीं होने वाला है। ज्योतिबा फुले मनुवादी संस्कृति गुलामी के खिलाफ विद्रोह करने वाले योद्धा थे। वहीं अन्य वक्ताओं ने कहा कि बाबा साहेब के संविधान, जो समता-स्वतंत्रता न्याय पर आधारित है। उसे सैंकड़ों बार संशोधन किया जा रहा है। लेकिन हिन्दू ग्रंथ, जो विषमता से भरा हुआ है। उसे संशोधन नहीं करना कहां का इंसाफ है। पवन कुमार भारती ने कहा कि देश के एसएस/एसटी पर आरएसएस व भाजपा के इशारों पर हमला कराए जा रहे है। 02 अप्रैल को मानवाधिकारों के लिए भारत बंद ऐतिहासिक रहा। आन्दोलनकारियों की हत्या की गई। जिसे सरकार 30 लाख का मुआवजा, सरकारी नौकरी, एवं मुकदमा वापस करने की मांग की गई। वहीं अन्य वक्ताओं में गणेश मिश्र समेत अन्य नेताओं ने संबोधित करते हुए कहा कि फुले के विचार से लैस होकर मनुवाद से लड़कर ही समाजवाद की स्थापना की जा सकती है। वहीं अधिवक्ता महेन्द्र नारायण राय ने कहा कि ईश्वरवाद, भाग्यवाद, पुर्नजन्म, धार्मिंक आडबंर को त्याग किए बिना समतामूलक समाज की स्थापना नहीं की जा सकती है। मौके पर रामलखन राम, विनोद राम, ललित राम, छोटे पासवान, विजय पासवान, विजय कुमार यादव, रामविनय प्रधान, श्याम पासवान, आनंद पासवान, मुकेश पासवान, रामनंदन यादव, कृष्ण कुमार, चमेली देवी, रेखा देवी, सुधा देवी, ज्योति देवी समेत कई लोगों ने ज्योतिबा फुले के तैल चित्र पर माल्यपर्ण कर नमन किया।

No comments:

Post a Comment

फेसबुक पर रेगुलर न्यूज़ अपडेट्स पाने के लिए पेज Like करें व अधिक से अधिक शेयर करें