Ticker

6/recent/ticker-posts

सांप्रदायवाद व जातिवाद के कारण देश हो रहा कमजोर

बेनीपट्टी (मधुबनी)। देश में सांप्रदायवाद एवं जातिवाद का जहर घोला जा रहा है। जिसके कारण देश की मूल समस्याओं पर किसी का ध्यान नहीं जा रहा है। देश में किसान-मजदूरों के साथ आम-अवाम सरकार की गलत नीतियों के कारण दुखी है। परंतु केन्द्र सरकार को इस बात से कोई सरोकार नहीं रह गया है। देश में दलित-महादलित व अल्पसंख्यकों के साथ गलत व्यवहार किया जा रहा है। पूंजीपतियों के द्वारा देश के लोकतंत्र पर कब्जा किया जा रहा है। चंद अमीर लोग राजनेताओं के साथ गठजोड़ कर बेशुमार संपत्ति का मालिक बनता जा रहा है, ओर देश का मजदूर-किसान दिनों दिन कमजोर होता जा रहा है। पूरे देश में आर्थिक असमानता फैल गया है। ये बातें बेनीपट्टी अंचल के अतरौली गांव के मध्य विद्यालय परिसर में आहूत सीपीआई का 28 वां अंचल सम्मेलन को संबोधित करते हुए पूर्व विधायक सह भाकपा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य रामनरेश पांडेय ने कहा। श्री पांडेय ने कहा कि जब तक इन देश से असमानता का दौर खत्म नहीं होगा, तब तक देश का मजदूर-किसान खुश नहीं हो सकता है। शिक्षा नीति व कृषि नीति को कमजोर किया गया है। जिसके कारण किसान खेती से विमुख हो रहे है। रोजगार देने का वादा कर सरकार बनाने वाली मोदी सरकार में बेरोजगारी दिनों -दिन बढ़ रही है। मंहगाई एवं भ्रष्टाचार के कारण आम लोग तबाह हो रहे है। अतरौली में आहूत सीपीआई का 28वां अंचल सम्मेलन की शुरुआत पार्टी के वरिष्ठ नेता अशेश्वर यादव के द्वारा पार्टी का झंडातोलन कर किया गया। अंचल सम्मेलन की अध्यक्षता अशेश्वर यादव ने किया। वहीं सम्मेलन को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय परिषद् सदस्य सह पूर्व जिला सचिव डा. हेमचन्द्र झा ने सभी साथियों को मजबूत होने एवं संगठन पर विशेष ध्यान देने की अपील करते हुए कहा कि संघर्ष से ही जनसमस्याओं का खात्मा किया जा सकता है। जिसके लिए सभी साथियों को आगे आने की जरुरत है। केन्द्र सरकार के गलत नीतियों के कारण हर वर्ष मिथिलाचंल बाढ़ की चपेट में आ जाता है। किसान बर्बाद हो जाते है। इसके निदान के लिए कोई भी सरकार आगे नहीं आ रही है। भूमिहीनों को जमीन नहीं दी जा रही है। सम्मेलन में बाढ़ से निदान के लिए हाईडैम का निर्माण, बंद उद्योग एवं चीनी मिल को चालू कराने, अधूरा पश्चिमी कोसी नहर योजना को पूर्ण कराने, बेघर को जमीन मुहैया कराने, वासगीत पर्चा एवं पक्का मकान देने, लंबित पेंशन योजना के लाभुकों को राशि देने, 60 वर्ष के उपर के सभी वृद्ध को तीन हजार मासिक पेंशन देने, किसान का कर्ज माफ करने, पैक्स द्वारा धान की खरीद शुरु करने, अरेड़ को प्रखंड बनाकर कार्य शुरुआत कराने, नियोजित शिक्षक के वेतनमान ठेका पर बहाल कर्मी के सम्मानजनक मानदेय सहित कई ज्वलंत मुद्दो पर जोरदार आन्दोलन करने का निर्णय लिया गया। सम्मेलन को बिहार राज्य परिषद् के सदस्य कृपानंद झा आजाद, मिथिलेश झा, अरविन्द प्रसाद, रामाशीष यादव, अंचल मंत्री आनन्द कुमार झा, पुष्पेन्द्र ठाकुर, विन्देश्वर यादव, मो. मोकीम, अजीत कुमार ठाकुर, राजदेव यादव, चौठी पासवान, सिंहेश्वर यादव, सुचिन्द्र राय, श्याम लाल यादव, अभिचन्द्र ठाकुर सहित कई सीपीआई नेताओं ने संबोधित किया।

Post a Comment

0 Comments