मधुबनी। जिला पदाधिकारी सह जिला स्वास्थ्य समिति के अध्यक्ष अमित कुमार के अध्यक्षता में स्वास्थ्य विभाग की समीक्षात्मक बैठक समाहरणालय स्थित सभाकक्ष में आहूत हुई।

बताते चलें कि सरकार द्वारा जिले में चलाए जा रहे विभिन्न स्वास्थ्य योजनाओं के सफल क्रियान्वयन हेतु आयोजित इस बैठक में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ साथ बाल विकास परियोजना के अधिकारीगण भी शामिल हुए।

1

उक्त बैठक में स्वास्थ्य विभाग से संबंधित विभिन्न मुद्दे जैसे हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर, प्राथिमक स्वास्थ्य केंद्र, अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर चिकित्सकों व अन्य स्वास्थ्य कर्मियों की उपलब्धता, जिले में गैर संचारी रोगों के रोकथाम के लिए उठाए गए कदम, प्रसव पूर्व जांच, संस्थागत प्रसव, चाइल्ड केयर, एंबुलेंस की कार्यप्रणाली, नियमित टीकाकरण, कोरोना से प्रतिरक्षण हेतु टीकाकरण, ओ पी डी, अस्पताल में भर्ती किए गए मरीजों की देखभाल आदि शामिल थे।

2

जिलाधिकारी ने जिले में स्वास्थ्य सेवाओं के बेहतर क्रियान्वयन के दृष्टिकोण से कई निर्देश भी दिए। उन्होंने सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर प्रतिनियुक्ति चिकित्सकों एवं अन्य चिकित्सा कर्मियों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के निर्देश देते हुए कहा कि ऐसी प्रतिनियुक्ति के समय इस बात का ध्यान रखा जाए कि आवश्यकता अनुसार सभी चिकत्सकों की ड्यूटी समान रूप से लगाई जाए और इसमें लगातार कई घंटो की सेवा से उनकी कार्यक्षमता प्रभावित न हों। चिकित्सकों के आगमन के दिन और समय की जानकारी आस पास के क्षेत्र के लोगों को भी दी जाए। उन्होंने निर्देश दिया कि संबंधित प्रखंड के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी समय समय पर इनका अनुश्रवण करें और विजिट बुक पर भी हस्ताक्षर अंकित करें। रात्रि ड्यूटी पर उपस्थिति का भी औचक निरीक्षण किया जाए।

उन्होंने डेटा वैलीडेशन कमिटी द्वारा स्वास्थ्य विभाग के ऑनलाइन डेटा अपडेट करने की संपूर्ण प्रक्रिया में पारदर्शिता अपनाए जाने के भी निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि ऑनलाइन अपलोड किया हुआ डेटा जिले में कार्य प्रणाली का आईना होता है। इसकी परिशुद्धता का पूरा पूरा खयाल रखा जाना चाहिए। उन्होंने निर्देश दिया है कि रिपोर्ट अपलोड होने से पहले सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी इसकी जांच कर हस्ताक्षरित करें। 

बैठक में आशा और आंगनवाड़ी सेविकाओं के लंबित भुगतान के मुद्दे पर भी जिलाधिकारी गंभीर दिखे। उन्होंने सभी तकनीकी खामियों को शीघ्र दूर कर अविलंब भुगतान के निर्देश दिए हैं।


जिलाधिकारी ने आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत सरकारी अस्पतालों को बेहतर भूमिका निभाने का दिशाबोध कराया ताकि केंद्र सरकार द्वारा आयुष्मान भारत योजना के अधीन प्रायोजित योजनाओं का लाभ भी इन अस्पतालों को हासिल हो सके।उन्होंने आम लोगों में सभी सरकारी अस्पतालों के अंतर्गत आयुष्मान भारत योजना से जुड़ी विभिन्न योजनाओं की जानकारी प्रदान करने हेतु प्रचार प्रसार करने के भी निर्देश दिए हैं।


उन्होंने स्पष्ट किया कि जो भी स्वास्थ्य कर्मी मरीजों को प्रसव कार्यों के लिए सरकारी अस्पतालों के बजाय निजी अस्पतालों में जाने हेतु निर्देशित करने का कार्य करेंगे, उन्हें चिन्हित कर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।


उक्त बैठक में सिविल सर्जन सुनील कुमार झा, अवर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी आर. के. सिंह, जिला प्रोग्राम पदाधिकारी आईसीडीएस शोभा सिन्हा, एसएमओ आदर्श, प्रभात ठाकुर, केयर इंडिया के जिला समन्वयक महेंद्र सिंह सोलंकी, एसएमसी यूनिसेफ प्रमोद कुमार झा सहित जिले के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक एवं सीडीपीओ शामिल थे।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here




ई-मेल टाइप कर डेली न्यूज़ अपडेट पाएं

BNN के साथ विज्ञापन के लिए Click Here

Previous Post Next Post