बेनीपट्टी के अकौर गांव में आपसी रंजिश व वर्चस्व की लड़ाई में जमीन कब्जाने का मामला सामने आया है. अकौर गांव के राजकुमार ठाकुर व उसके सगे भाई आनंद कुमार ठाकुर ने अपने गांव के महेश्वर ठाकुर, शारदानंद ठाकुर, परमानंद ठाकुर, शरद चन्द्र मिश्रा, विपिन चन्द्र मिश्रा, मानस चन्द्र मिश्रा भुल्ला सदाय, मुकेश मिश्र सहित करीब 20 लोगों पर जबरन निजी जमीन कब्जाने का आरोप लगाया है. साथ ही पुलिस प्रशासन पर भी लापरवाही का आरोप लगाया है. 



अकौर गांव के राजकुमार ठाकुर व आनंद कुमार ठाकुर ने बताया कि उन्होंनें मामले को लेकर बेनीपट्टी थाना से लेकर जिले के एसपी तक को सूचित किया लेकिन अभी तक कोई मदद नहीं मिली. गांव के ही कुछ लोगों ने हमारे निजी जमीन को कब्जा कर रास्ता बना लिया है. मामले को लेकर आनंद कुमार ठाकुर ने बताया कि वो कब्जा से पूर्व बेनीपट्टी थाना दौड़ते रहे, हर बार पुलिस एफआईआर के नाम पर टरकाती रही. वहीं  25 मई को बेनीपट्टी पुलिस ने उन्हें व उनके भाई को दिन भर थाना पर बैठाये रखा. उधर, दबंग लोग उनके जमीन पर कब्जा करते रहे.  उस जमीन पर इस तरह उत्पात मचाया गया कि जमीन पर ;अगये गये सभी पौधे और घर का सामान तालाब में फेंक दिया गया.



वृद्ध का आरोप है कि इस कब्जा के खेल में पुलिस के हाथ भी नकद नारायण लगे है, जिसके कारण कोई भी पदाधिकारी उन लोगों को कब्जा करने से नहीं रोक सका. उल्टे थाना के सहायक अवर निरीक्षक राकेश कुमार राय ने कहा की दूसरी पार्टी से समझौता कर लीजिए. मैंने मना किया, तो उन्होंने कहा कि ठीक है. पुलिस का काम है लाश उठाना. जब गिरेगी तो उठा लेंगे. न्याय की उम्मीद में थाना से लेकर प्रशासनिक पदाधिकारियों तक न्याय की गुहार लगा रहे राजकुमार ठाकुर व आनंद कुमार ठाकुर ने प्रशासन से मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की है.



आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here




ई-मेल टाइप कर डेली न्यूज़ अपडेट पाएं

BNN के साथ विज्ञापन के लिए Click Here

Previous Post Next Post