Ticker

6/recent/ticker-posts

बेनीपट्टी के 18 साल के प्रिंस यूट्यूब से कमा रहे लाखों रूपये, विदेशों में देखे जा रहे है Video


कौन कहता है आसमां में सुराख नहीं हो सकता, एक पत्थर तो तबियत से उछालो यारों... इस कहावत को चरितार्थ किया है बेनीपट्टी प्रखंड क्षेत्र के मात्र 18 साल के प्रिंस कुमार झा ने। इस उम्र में प्रिंस ने जो कर दिखाया है वह वाकई में काबिलेतारीफ है। बेनीपट्टी प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत बेतौना गांव निवासी विघ्नेश झा व किरन देवी के पुत्र प्रिंस कुमार झा तकनिकी के इस युग में पढ़ाई को जारी रखते हुए यूट्यूब के जरिये अपने कला कौशल से बेहतर कमाई कर रहे हैं।

2 लाख से अधिक है 
सब्सक्राइबर

18 वर्षीय प्रिंस कुमार झा टेक विथ प्रिंस नाम से यूट्यूब चैनल चलाते हैं, जिसके 2 लाख 21 हज़ार से अधिक सब्सक्राइबर हैं और इससे उनकी कमाई अब लाख के करीब पंहुच चुकी है। प्रिंस को यूट्यूब की तरफ से सिल्वर प्ले बटन भी मिल चुका है। प्रिंस ने पढ़ाई के साथ साथ यूट्यूब के क्षेत्र में नाम कमाया है, वह अभी बीकॉम की पढ़ाई कर रहे हैं, प्रिंस ने इंटर की परीक्षा में अपने कॉलेज में सर्वाधिक 432 नंबर प्राप्त किये थे। 

शुरू में हुई परेशानी 

प्रिंस बताते हैं कि शुरुआत में उन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। प्रिंस ने शुरुआत में तीन यूट्यूब चैनल बनाये जिनके नाम मैथिली गीत, भोजपुरी कार्टून वीडियो और टेक्निकल प्रिंस था, लेकिन जानकारी के अभाव में मेहनत के बावजूद सफलता नहीं मिली, एक एक कर सभी चैनल बंद होते गये। इतना कुछ होने के बाद भी प्रिंस ने हिम्मत नहीं हारी और अपना काम करते रहे।

चौथे प्रयास में मिली सफलता

मैट्रिक के रिजल्ट आने के बाद प्रिंस ने नए सिरे फिर से मेहनत करना शुरू किया और आख़िरकार चौथे प्रयास में प्रिंस को सफलता मिल ही गई। प्रिंस ने जून महीने के 2019 में अपने चौथे चैनल टेक विथ प्रिंस की शुरुआत की थी, जिसके आज के तारीख में करीब 2 लाख 21 हज़ार सब्सक्राइबर है। प्रिंस अपने यूट्यूब चैनल पर टीवी शो के रिव्यु करते हैं, जिसमें सभी वीडियो के व्यूज लाखों में होते हैं। प्रिंस के वीडियो को देखने वाले व प्रिंस के प्रशंसक भारत के अलावे नेपाल, पाकिस्तान, बांग्लादेश से भी हैं।

पापा को देते हैं कमाई

यूट्यूब से अपनी कमाई के बारे में प्रिंस बताते हैं कि जब पहली बार यूट्यूब ने पेमेंट भेजा था तो ख़ुशी का ठिकाना नहीं था, यह पल सपने साकार होने जैसा था। प्रिंस यूट्यूब से ही रही अपनी सारी कमाई पापा को दे देते हैं, प्रिंस कहते है कि पापा के नाम से बैंक अकाउंट था तो सारे पेमेंट पापा के खाते में ही आते हैं और मैं पापा से सिर्फ अपनी पढ़ाई को लेकर जरूरी किताबों, सामानों के अलावे मोबाइल रिचार्ज के लिए रूपये लेता हूं। 

शुरू में मिली असफलता

प्रिंस शुरुआत के दौर में मिली असफलता को लेकर कहते हैं कि वह मोटिवेशन गुरु संदीप महेश्वरी व टेक्नीकल गुरु जी के वीडियो को अक्सर देखते हैं, असफलता से उठकर सफलता की तरफ बढ़ना और खासकर उस क्षेत्र का चयन करना जिसे लोग नजरअंदाज करते हैं, और फिर सफलता को हासिल करना यह प्रेरणा उन लोगों के वीडियो को देखकर मिली।


गांव के लोग देते थे नसीहत

गांव के लोग प्रिंस के काम को हास्य के रूप में और समय की बर्बादी समझते थे और यह सब छोड़ पढ़ाई करने की नसीहत देते थे, प्रिंस ने कहा कि हमनें कभी किसी को पलटकर जवाब नहीं दिया क्योंकि सभी मेरे बेहतरी के लिए ही कह रहे थे, क्योंकि गांव में यूट्यूब जैसे तकनिकी चीजों के बारे में लोगों को जानकारी कम होती है।

इसी वजह से मेरे आस पास के लोग हमें यह सब छोड़ पढ़ाई करने की नसीहत देते थे। लेकिन हमनें पढ़ाई के साथ-साथ इसे भी जारी रखा, जिससे हमारे लिए सोचने वाले करीबियों की हमसे जो उम्मीदें थी वह भी पूरी होती गई और मैं अपने रूचि के अनुसार यूट्यूब पर काम भी करता रहा, और यहां भी सफलता भी मिली।


गांव के चौक पर जाकर करते हैं वीडियो शूट

आगे प्रिंस बताते हैं कि जब गांव में शादी-मुंडन का कार्यक्रम होता है तो गीत की आवाजों से वीडियो बनाने में समस्या आती है, इससे बचने के लिए वह गांव के चौक पर जाकर वीडियो शूट करते हैं फिर रात को पढ़ाई के बाद वीडियो एडिट व अपलोड का काम करते हैं। जब इंटर की परीक्षा नजदीक थी तो वह मां-पापा से छुपकर रात को पढ़ाई के बाद 11 बजे के बाद वीडियो बनाते थे और उसी रात वीडियो को एडिट कर अपलोड करते थे फिर सुबह में उनका कोचिंग होता था। 


परिजनों का मिला सहयोग

प्रिंस बताते हैं कि इस काम में उन्हें अपने परिवार के सदस्यों का भरपूर सहयोग मिला है, मां-पापा का हमेशा से कहना रहा है कि जो भी करो बेहतर करो, किसी का हानि ना हो और ऐसा काम करो जिससे परिवार के साथ गांव समाज का नाम रौशन हो।

अपने हम उम्र व यूट्यूब के क्षेत्र में काम करने वाले नए लोगों के लिए प्रिंस कहते हैं कि जिस भी क्षेत्र में आपकी रूचि हो उसमें प्रयास करते रहिये, जरूरी नहीं है कि जिस विषय में आपकी रूचि है उसमें पहली बार में ही सफलता मिल ही जाए लेकिन यह तय है कि जिस विषय में आपकी रूचि है उसमें आपका प्रयास जारी रहेगा तो सफलता मिलनी तय है, इसीलिए असफलता से घबराएं नहीं यह सफलता के मार्ग खोलती है।

प्रिंस का चैनल - https://youtube।com/c/TECHWithPrince1





Post a Comment

0 Comments