Ticker

6/recent/ticker-posts

उतरी पहने जनता के बीच जायेंगे BJP नेता घनश्याम ठाकुर, बिना नाम लिए मंत्री के खिलाफ खोला मोर्चा



बेनीपट्टी सीट से बीजेपी से टिकट के दावेदार मधुबनी जिलाध्यक्ष घनश्याम ठाकुर ने आज मंगलवार को फेसबुक लाइव के माध्यम से कई बातों का खुलासा किया है. बता दें कि सोमवार को उन्हें पार्टी ने दिल्ली बुलाया था, जहां उन्हें टिकट देने की बात कही गई थी. लेकीन ऐसा हुआ नहीं.



घनश्याम ठाकुर ने बेनीपट्टी से दावेदारी को लेकर कहा है कि सबसे पहले बीजेपी के कुछ नेताओं के साथ आरएसएस के नेता नागेन्द्र जी ने हमें शुरुआत में कहा था कि आपको बेनीपट्टी से चुनाव लड़वाया जाएगा. आप बेनीपट्टी में जाकर काम कीजिये. जिसके बाद उन लोगों के कहने पर हम बेनीपट्टी के जनता के बीच रहें. जिलाध्यक्ष पद से हटने का सुझाव उन्हीं लोगों ने दिया था और हर बार स्वयं चुनाव को लेकर अक्सर वह लोग हमें आश्वासन देते आ रहे थे. और पूछते थे कि काम कर रहे हैं ना क्षेत्र में ?

आगे उन्होंने सोमवार को पार्टी द्वारा दिल्ली बुलाये जाने की घटनाक्रम को लेकर कहा कि सुबह-सुबह प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल जी का व्हाट्स एप्प पर कॉल आया था. उन्होंने मेरे पिता जी के निधन की जानकारी पहले से थी, जिसको लेकर उन्होंने यह भी पूछा कि पिता जी का क्रिया कर्म हो गया ? हमनें उन्हें बताया कि अभी क्रिया कर्म में वक्त है. जिसके बाद एक और कॉल आया जिसमें उन्होंने कहा कि आप दिल्ली आ जाइये, उसी कॉल पर उन्होंने भूपेन्द्र यादव जी से भी बात करवाया. साथ ही सामूहिक रूप से कहा कि आइये राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जी के पास से सिम्बल ले जाइए. 

पार्टी के आदेश के बाद आनन-फानन में हम उतरी पहने दिल्ली रवाना हो गये. जब हम एयरपोर्ट पर ही थे जो मंगल पांडेय व संजय जायसवाल जी ने बधाई भी दिया. दिल्ली पंहुच कर जब हमनें संजय जायसवाल जी को फोन किया और जानकारी दी तो उन्होंने नित्यानंद जी के पास पंहुचने के लिए कहा. जहां भूपेन्द्र यादव, राधा मोहन सिंह सहित कई और नेता पहले से मौजूद थे. जहां मुझे भूपेन्द्र यादव जी ने बताया गया कि घनश्याम जी बेनीपट्टी सीट से विनोद नारायण झा को चुनाव लड़ाया जाएगा, आपको विधान परिषद सदस्य बनाया जायेगा. अगर वह जीत जाते हैं तो उनके बचे हुए कार्यकाल एमएलसी आपको बनाया जायेगा. हमने इस पर जवाब दिया कि अगर वह हार जायेंगे तो ?  इस पर उन्होंने कहा कि आगे जब चुनाव विधान परिषद का तब देखा जायेगा. 

हमनें इस पर कहा कि जब संगठन का चुनाव होता है तो विधानसभा लड़ाने की बात कही जाती है. जब विधान सभा की बात आती है तो विधान परिषद कहा जाता है, जब विधान परिषद का आयेगा तो लोकसभा कहा जायेगा.

अपने लाइव के दौरान घनश्याम ठाकुर ने कहा कि हमें अब यह समझ में आ गया है कि पार्टी में कुछ लोगों के दवाब के कारण अन्याय हो रहा है . जिसके कारण मेरे संघर्ष का उपहास उड़ाया जा रहा है, अपने जीवन के शुरूआती समय से पार्टी के लिए लाठी डंडा खाता रहा लेकिन इसका परिणाम हमें अपमान, उपहास मिला है. नागेन्द्र जी, संजय जायसवाल, अश्विनी चौबे, नन्द किशोर यादव, प्रेम कुमार जी सबसे मैं सवाल करना चाहता हूँ कि आखिर मेरी अपराध क्या थी जो मुझे इस तरह भरोसा देकर उपहास का पात्र बनाया गया. उन लोगों ने ही मुझ जैसे एक आम कार्यकर्ता को चुनाव के मैदान में जाने के लिए कहा था, और आज मुझे एक ऐसे नेता के कारण उपहास बनाया गया है जो नरेंद्र मोदी के विजय रथ को रोकने के लिए काम किये. आगे उन्होंने बिना नाम लिए यह भी कह दिया कि जिन लोगों ने नरेंद्र मोदी जी के विजय रथ को रोकेने के लिए एड़ी चोटी की जोर लगा दी, वह लोग आज टिकट लेकर मैदान में हैं. ऐसे लोगों को या तो पार्टी दंडित करें अन्यथा मैं जनता  के बीच जाऊंगा और जनता से इन्साफ की गुहार लगाऊंगा. मैं जनता से माफ़ी मांगने जाऊँगा, हमनें जनता से वादा किया था कि मैं BJP के प्रत्याशी के रूप में नहीं आ रहा हूँ.

दिल्ली से मेरे गांव वापस आने के बाद बेनीपट्टी क्षेत्र के लोग हमें उम्मीद दे रहे हैं, साथ ही दवाब दे रहे हैं कि मैं निर्दलीय मैदान में आउं. मैं पिता के श्राद्ध कर्म के बाद 15 तारीख के बाद पार्टी को अपना पद से इस्तीफा सौंप आउंगा. मेरे साथ जो हुआ, पिता के निधन के बाद उतरी लेने के अवस्था में दिल्ली बुलाकर इस तरह का उपहास बनाया गया, पार्टी द्वारा मेरा मजाक बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ा गया है. अगर मुझे एमएलसी बनाने का ही प्रलोभन देना था तो हमें फोन पर ही बता दिया जाता. फोन पर सिम्बल लेने के लिए दिल्ली आने के लिए कहा गया, और सामने में हमें कुछ और ही बताया गया जिसका कहीं कोई जिक्र नहीं था. श्राद्ध कर्म को बीच में मेरा दिल्ली जाना, और आशा भरी नजरों ने बेनीपट्टी की जनता का मेरे लौटने इंतज़ार करना. यह मैथिल समाज का भी अपमान हुआ है, मैं कल से उतरी पहने ही बेनीपट्टी की जनता के बीच जाउंगा और माफ़ी मांगूंगा. अब जनता फैसला लेगी.

Post a comment

0 Comments