Ticker

6/recent/ticker-posts

मिथिलाचंल के अग्रणी नेता थे तेजू बाबू, मनी पुण्यतिथि

बेनीपट्टी (मधुबनी)। भाकपा ने पूर्व विधायक तेजनारायण झा के आठवीं पुण्यतिथि मनाई। पार्टी कार्यालय परिसर में भाकपा नेताओं ने पूर्व मंत्री के तैल चित्र पर पुष्प अर्पित कर माल्यापर्ण कर उन्हें नमन किया। इस अवसर पर आयोजित श्रद्धांजलि सभा को संबोधित करते हुए भाकपा के जिला सचिव मिथिलेश झा ने कहा कि तेजू बाबू मिथिलाचंल के अग्रणी नेता के तौर पर थे। उन्होंनें स्वतंत्रता आन्दोलन में ऐतिहासिक योगदान दिया था। 1939 में तेजनारायण झा सुड़ी हाईस्कूल में ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन से जुड़ कर भोगेन्द्र झा के साथ हो गये।  उसी जगह स्वतंत्रता आन्दोलन के सेनानी श्रीमोहन झा, चतुरानन मिश्रा, राजकुमार पूर्वे, मांझी साहु, गंगाधर दास, कृष्णचन्द्र चौधरी ने भोगेन्द्र झा के नेतृत्व में न्यूक्लिया का गठन किया। श्री झा ने कहा कि उस समय कम्युनिस्ट पार्टी का निर्माण गैरकानूनी था। न्यूक्लिया के सदस्य परोक्ष रुप से भाकपा के सदस्य ही हुआ करते थे। वक्ताओं ने कहा कि तेजू बाबू के आन्दोलन में शामिल होने पर सन् 1942 के भारत छोड़ो आन्दोलन के दरम्यान तत्कालीन अंग्रेज कमिश्नर ने तलब किया। जहां स्वतंत्रता सेनानी होने के कारण उन्हें मुजफ्फरपुर जेल में बंद कर दिया गया। भाकपा के नेताओं ने तेजू बाबू की जीवनी को सभा के माध्यम से सुना कर उन्हें याद किया। सभा की अध्यक्षता तिरपित पासवान ने किया। श्रद्धांजलि सभा को कृपानंद झा आजाद, मनोज मिश्रा, आनन्द झा, प्रमोद पूर्वे, ललन झा, अजित कुमार ठाकुर, विरेन्द्र नाथ कर्ण, संतोष झा, गणेश झा, अनिल कुमार झा, लालू यादव सहित कई नेताओं ने संबोधित किया। सभा में आगामी 17 से 20 मार्च को आहूत भाकपा की 23वें राज्य सम्मेलन को ऐतिहासिक बनाने का संकल्प लिया गया।

Post a Comment

0 Comments