Ticker

6/recent/ticker-posts

अतिक्रमण व विभागीय लापरवाही के कारण विलुप्त होने के कगार पर कमला शाखा

बेनीपट्टी (मधुबनी)। जयनगर से साहरघाट के पकड़ी गांव तक कभी अनवरत बहने वाली कमला नहर की उपशाखा विभागीय लापरवाही के कारण विलुप्त होने कगार पर जा पहुंचा है। कमला नहर के आस पास रहने वालें स्थानीय लोगों के द्वारा नहर की उपशाखा को मिट्टी से भराई कर अतिक्रमण कर लेने उपशाखा अपने सार्थकता को भूला चुकी है। जयनगर से बहने वाली कमला नदी केे जल से सिंचाई कराने के मकसद से हरलाखी के दर्जनों गांवो के मुहाने होते हुए करीब 45 किमी तक फैली कमला नहर की उपशाखा मधवापुर प्रखंड के पकडी गांव तक जाती है। परंतु भू-माफियाओं के द्वारा उक्त नहर के अतिक्रमण कर लेने के कारण आज उक्त नहर विलुप्त होने पर पहुंच चुका है। वहीं विभागीय देखरेख नहीं होने के कारण उक्त नहर में जलीय पौंधे व गाद जमा हो चुका है। जिससे बरसात के मौसम में भी पानी नहर के गोद में ठहर नहीं पाता है। स्थानीय लोगों की माने तो कभी कमला नहर व क्षेत्र से गुजरने वाली अधवारा समूह की धौंस नदी के सहारे खेती होती थी। परंतु आज कमला नहर खुद विलुप्त हो रही है, वहीं धौंस नदी का पानी जहरीला होने के कारण खेती लायक पानी नहीं रह सका है। जानकारी दें कि वर्षो पूर्व जयनगर स्थित कमला नदी से हरलाखी प्रखंड से मधवापुर प्रखंड तक करोडों की राशि खर्च कर नहर बनाया गया था। कुछ वर्षो तक किसान उक्त पानी से अपने खेतों को लहलहा पाते थें,परंतु सामाजिक दृष्टिकोण में आयी भारी कमी के कारण लोग खुद ही उक्त नहर को मिटाने पर लग गये है। जिससे आम किसानों को भारी नुकसान झेलना पडता है। क्षेत्र के किसान विनय कुमार यादव, विरेंद्र कुमार झा, संजीव कुमार, लक्ष्मण यादव, लक्ष्मी साह, लाल बाबू यादव कहते है कि जब उक्त नहर का अतिक्रमण नहीं किया गया था तो बरसात के मौसम तो दूर अन्य दिनों में भी नहर में खेती लायक पानी जमा रहता था। क्षेत्र के रामपुर, दुर्गापट्टी, उमगांव, पिपरौन, फूलहर, गंगौर, केरवा, मुखियापट्टी, साहरघाट, विशनपुर सहित कई गांव के किसान खेत के पटवन के लिए कभी परेशान नहीं होते थें। अब उंचे दामों पर पटवन कराना पडता है। जिसके कारण अधिक किसान खेती से मुंह मोडने लगे है। उधर किसानों की माने तो विभाग को उक्त नहर की उपशाखा को अतिक्रमणमुक्त कराकर नहर की साफ-सफाई करा देनी चाहिए। जिससे क्षेत्र के किसान फिर से खुशहाल हो सके।

Post a Comment

0 Comments