मधुबनी। जिले के सभी स्वास्थ्य संस्थानों में गुरुवार को एंबुलेंस सेवाएं ठप रही। अपनी विभिन्न मांगों को लेकर एंबुलेंस कर्मी बेमियादी हड़ताल शुरू की है। संघ का कहना है जबतक इनलोगों की मांगे नहीं मानी जाती है तो हड़ताल जारी रहेगी। गुरुवार को सदर अस्पताल में सभी एंबुलेंस का परिचालप ठप कर संघ से जुड़े कर्मियों ने जोड़दार प्रदर्शन किया। एंबुलेंस सेवा बंद रहने की वजह से सदर अस्पताल आने-जाने वाले मरीजों को प्राइवेट वाहनों से जाने की मजबूरी रही। 

1


संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि लंबित ईपीएफ, ईएसआईसी एवं कर्मियों के साथ किए जा रहे शोषण के विरूद्ध 102 एंबुलेंस कर्मियों ने कार्य बहिष्कार शुरू किया है। संघ के पदाधिकारी इस बारे में डीएम को भी पहले ही अवगत कराया गया है। 102 कर्मचारी संघ के भगवान झा ने इसकी जानकारी देते हुए कहा कि सभी 102 एंबुलेंस कर्मी लगातार 10 वर्षों से अपने कर्तव्य का निर्वाह पूरी ईमानदारी से कर रहे हैं। 

2

वर्तमान कंपनी पीडीपीएल एवं सम्मान फाउंडेशन जो वर्ष 2017 से अभी तक एंबुलेंस का संचालन सही ढंग से नहीं कर पा रही है।  डीजल की कमी, एंबुलेंस का एन्सोरेंस, कर्मी का एंसोरेंस, आतुरवाहन का फिटनेस एवं मरम्मति कार्य नहीं हो रहा है। फिरोज व मनोज यादव ने बताया कि संस्था के द्वारा सभी कर्मियों का 18 से 25 माह का ईपीएफ नहीं दिया गया है। इस संबंध में कई बार वार्ता करने पर एजेंसी की ओर से कहा जाता है कि हर माह बिल भुगतान करने से पहले संस्था द्वारा ईपीएफ का चलान जमा किया जाता है। इसके बाद बिल भुगतान होता है। संघ के पदाधिकारियों का कहना है कि जब हर माह जिला स्वास्थ्य समिति में चलान जमा किया जाता है तो फिर हमलोगों का ईपीएफ का पैसा अकाउंट में क्यों नहीं जाता है। कई कर्मियों का बिना सूचना या पत्राचार के वेतन बंद कर दिया जाता है। इन तमाम मांगों को लेकर कार्य बहिष्कार किया गया है।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here




ई-मेल टाइप कर डेली न्यूज़ अपडेट पाएं

BNN के साथ विज्ञापन के लिए Click Here

Previous Post Next Post