बेनीपट्टी(मधुबनी)। बेनीपट्टी विधानसभा के पूर्व विधायक सह राजद के वरिष्ठ नेता रामाशीष यादव ने मंगलवार को बाढ़ग्रस्त गांव का दौरा किया। श्री यादव ने करहारा, सौहरौल, गुलरिया टोल, समदा, सिमरकोन आदि गांव के बाढ़पीड़ितों से मिलकर बताया कि वे लोग बचपन से ही बाढ़ की तबाही को देखते ओर सहते आये है। 


लेकिन, सरकार के स्तर पर बहुत सारी बाते होती थी। राहत की बात होती थी। लेकिन, अभी तक सिर्फ हवाई सर्वेक्षण ही देखा गया है। किसानों की फसल पूरी तरह से बर्बाद हो गयी, गरीबों के घर ढह गए। 


श्री यादव ने कहा कि, जब इतने पैमाने पर क्षति हो गयी तो फिर, बाढ़ पूर्व तैयारी का क्या मतलब। उन्होंने कहा कि करहारा के कई गांव में नाव के लिए लोग तरस रहे है। लोगों ने बताया कि पैसा देकर नाव से किसी तरह सौली तक आवाजाही कर लेते है। ये सब क्या है? 


उन्होंने कहा कि, जब हर वर्ष बेनीपट्टी अनुमंडल बाढ़ग्रस्त हो जाता है तो फिर, अभी तक बेनीपट्टी में बाढ़ नियंत्रण के लिए कोई व्यवस्था क्यों नहीं की गई, हर बाढ़ में झंझारपुर पर लोग निर्भर है। 


वही श्री यादव ने कहा कि बेनीपट्टी के सीओ के खराब व्यवहार की भी खूब शिकायत है। जबकि, आपदा के समय अधिकारियों को शान्तिपूर्वक जनता के हित के लिए काम करना चाहिए। 


उन्होंने सरकार से तत्काल बाढ़पीड़ितों के खाते में छह-छह हजार रुपये, घर के लिए लाभ, फसल क्षति देने की मांग की।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here





Previous Post Next Post