Ticker

6/recent/ticker-posts

पीएम का आभार, गांव और किसानों की सुध ली : विभय

बेनीपट्टी(मधुबनी)। स्वयंसेवी संस्था अभ्युदय के अध्यक्ष विभय कुमार झा ने कहा कि आज ग्रामसेवकों के साथ प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने गांव और किसानों की सुध ली, वह काबिले तारीफ है। यह हम जैसे ग्रामीणों के लिए सौभाग्य की बात है कि प्रधानमंत्री ने कोरोना वायरस संकट से निपटने में ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों की भूमिका की सराहना की है। कोरोना संकट का सबसे बड़ा संदेश और सबक यह है कि हमें आत्मनिर्भर बनना ही पड़ेगा । युवा भाजपा नेता व अभ्युदय के अध्यक्ष ने बताया कि प्रधानमंत्री ने ‘राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस’ पर ग्राम पंचायतों के सरपंचों और अध्यक्षों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संवाद करते हुए कहा कि कोरोना महामारी ने हमारे लिए अनेक मुसीबतें पैदा की हैं, जिनकी हमने कभी कल्पना तक नहीं की थी। लेकिन इससे भी बड़ी बात ये है कि इस महामारी ने हमें नई शिक्षा और संदेश भी दिया है। कोरोना संकट ने अपना सबसे बड़ा संदेश हमें दिया है कि हमें आत्मनिर्भर बनना पड़ेगा। गांव अपनी मूलभूत आवश्यकताओं के लिए कैसे आत्मनिर्भर बनें, जिला अपने स्तर पर, राज्य अपने स्तर पर, और इसी तरह पूरा देश कैसे आत्मनिर्भर बने... अब ये बहुत आवश्यक हो गया है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों से कहा कि आप सभी ने दुनिया को मंत्र दिया है- ‘दो गज दूरी’ का, या कहें ‘दो गज देह की दूरी’ का। इस मंत्र के पालन पर गांवों में बहुत ध्यान दिया जा रहा है। मोदी ने कहा कि इतना बड़ा संकट आया, इतनी बड़ी वैश्विक महामारी आई, लेकिन इन 2-3 महीनों में हमने ये भी देखा है भारत का नागरिक, सीमित संसाधनों के बीच, अनेक कठिनाइयों के सामने झुकने के बजाय उनसे टकरा रहा है । मोदी ने इस अवसर पर एकीकृत ई-ग्रामस्वराज पोर्टल और मोबाइल ऐप के साथ ही स्वामित्व योजना भी शुरू की। पीएम मोदी ने कहा कि पिछले 5-6 वर्षों में गांवों में तेजी से ब्रॉडबैंड कनेक्शन उपलब्ध कराने और यह सुनिश्चित करने के लिए काम किया गया है कि राष्ट्र के हर कोने में मोबाइल फोन पहुंचे। 1.25 लाख से ज्यादा पंचायतों तक ब्रॉडबैंड कनेक्शन पहुंच गया है। कॉमन सर्विस सेंटरों की संख्या भी तीन लाख से भी ज्यादा हो गई है। पीएम मोदी ने सरपंचों के साथ बातचीत के दौरान कहा कि आज सरकार ने दो बड़े प्ररियोजना ग्राम स्वराज और स्वामित्व शुरू किए हैं, जिससे गांव के आधारभूत संरचना को मजबूत करने और शहरों और गांवों के बीच दूरी को कम करने में मदद मिलेगी। यह पंचायतों के संपूर्ण डिजिटलीकरण की शुरुआत है।  श्री झा ने कहा कि यह तमाम किसानों और ग्रामीणों के लिए गर्व की बात है।

Post a comment

0 Comments