बेनीपट्टी के 62 साल के BJP कार्यकर्त्ता को 7 साल बाद भी नहीं मिला चापाकल, सब्र टुटा तो फेसबुक पर छलका दर्द - BNN News

Latest

8 Nov 2019

बेनीपट्टी के 62 साल के BJP कार्यकर्त्ता को 7 साल बाद भी नहीं मिला चापाकल, सब्र टुटा तो फेसबुक पर छलका दर्द


बेनीपट्टी विधानसभा क्षेत्र के बीजेपी कार्यकर्ता का दर्द फेसबुक पर छलका है. बेनीपट्टी के नगवास पंचायत अंतर्गत करही गांव निवासी 62 वर्षीय बीजेपी के बुजुर्ग कार्यकर्ता और वर्तमान में शक्ति केंद्र प्रभारी दिनेश्वर सिंह उर्फ़ दिनेश सिंह ने अपने फेसबुक वाल पर लिखा है कि...


मेरे नाम से भाजपा के जिला कार्यकारिणी द्वारा वर्ष 2012 में तत्कालीन विधायक और वर्तमान बिहार सरकार के लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण मंत्री विनोद नारायण झा को अनुशंसा किया गया चापाकल जो वर्ष 2019 तक प्राप्त नही हुआ. फिर भी भाजपा कार्यकर्ताओं और ग़रीबों की पार्टी है.



दिनेश सिंह ने अपने फेसबुक पोस्ट में सात साल पहले बेनीपट्टी विधानसभा से तत्कालीन बीजेपी के विधायक और वर्तमान में बिहार सरकार के मंत्री विनोद नारायण झा के नाम लिखे गये आवेदन को भी साझा किया है. आवेदन 09 अगस्त 2012 को लिखी गई है. आवेदन में दिनेश सिंह ने खुद की आर्थिक स्थिति कमजोर होने के साथ-साथ घर में पीने के पानी की समस्या होने का भी जिक्र किया है. वहीं आवेदन को भारतीय जनता पार्टी के तत्कालीन जिला कार्यकारणी सदस्य भवानंद झा ने प्रमाणित भी किया है. भवानंद झा ने इस आवेदन को प्रमाणित करते हुए लिखा है कि दिनेश सिंह बीजेपी के बहुत पुराने स्वाभिमानी सक्रीय सदस्य हैं. इनको चापाकल की सख्त जरुरत हैं, जो कि इन्हें दिया जाय. लेकिन सात साल से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी दिनेश्वर सिंह को चापाकल नहीं मिल सका.



इस बाबत दिनेश सिंह ने बताया कि साल 2012 में हमनें बेनीपट्टी जाकर मंत्री विनोद नारायण झा के बेनीपट्टी पार्टी कार्यालय के प्रभारी विमल झा को आवेदन दिया था. जिसके गवाह बीजेपी के सक्रीय भवानंद झा भी हैं, उन्होंने मेरे आवेदन को प्रमाणित भी किया था. लेकिन आज तक इस आवेदन पर कोई असर नहीं हुआ. वहीं आगे दिनेश सिंह ने बताया कि मेरे जैसे बहुत ऐसे बीजेपी के पुराने कार्यकर्ता हैं जिन्हें सुविधा देने के नाम पर पार्टी के बड़े बड़े नेताओं द्वारा हाशिये पर रख दिया गया है. जिसका परिणाम है कि जब भी चापकाल का आवंटन होता है तो उसमें बीजेपी के नए आयातित कार्यकर्ताओं को तवज्जो दिया जाता है. दर्जनों से अधिक चापकाल को पार्टी के आयातित कार्यकर्ताओं द्वारा बेच दिया गया है. जो भी पार्टी में नए-नए पदाधिकारी बन बैठे हैं सभी आयातित कार्यकर्ता है. मैं पार्टी के स्थापना काल से ही कार्यकर्ता रहा हूं. हमेशा मुझे पार्टी के नेताओं पदाधिकारियों द्वारा कहा जाता है कि नींव का ईंट दबा कुचला होता है. आगे श्री सिंह ने पार्टी धर्म की बात पर कहा कि पार्टी का पुराना कार्यकर्ता हूं पार्टी के साथ रहूंगा लेकिन ऐसे लोगों से सामना जब भी होगा तो मुखर होकर आवाज उठाऊंगा.


No comments:

Post a Comment

फेसबुक पर रेगुलर न्यूज़ अपडेट्स पाने के लिए पेज Like करें व अधिक से अधिक शेयर करें