Ticker

6/recent/ticker-posts

घरेलू हिंसा पर महिलाओं की चुप्पी होती खतरनाक : एसडीपीओ

बेनीपट्टी(मधुबनी)। कन्हैया मिश्रा : अधिकतर महिला घरेलू हिंसा को हल्कें में ले लेती है।जो न तो समाज के लिए बेहतर है ओर ना ही पीड़ित महिला के लिए।इसलिए ऐसे मामलों को हल्के में न लेकर पुलिस को ऐसे मामलों की जानकारी दें ताकि ऐसे हिंसा से महिलाओं की रक्षा की जायें। उक्त बातें एसडीपीओ निर्मला कुमारी प्रखंड के सलहा पंचायत भवन पर कोटपा अभियान के तहत उपस्थित महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा।सुश्री कुमारी ने लोगों को बताया कि नशा से मुक्ति होने पर हमारा समाज अब स्वच्छ बन गया है।बावजूद कुछ लोग महिलाओं के साथ घरेलू िंहंसा करने से बाज नहीं आ रहे है।ये कानून जुर्म है।इसे न तो समाज सहन कर सकता है ओर ना ही कानून।वहीं उन्होंने बताया कि घरेलू हिंसा का सबसे बड़ा कारण है कि लोग शराबबंदी के बाद भी तंबाकू व अन्य मादक पदार्थ का सेवन करते है।एसडीपीओ ने बताया कि ये सबसे अधिक खतरनाक है।गुटखा का प्रयोग करने से मुंह का कैंसर हो जाता है।जिससे आदमी की क्षति के साथ पैसों की भी क्षति होती है।वहीं नशा के होने वालें अन्य बीमारियों के संबंध में जानकारी देते हुए उपस्थित सभी लोगों से गुटखा अथवा अन्य मादक पदार्थ का सेवन नहीं करने की बात कहीं। किसी भी प्रकार के गुटखा व खैनी से दूर रहने की सलाह दी।मुखिया संघ के अध्यक्ष अजित पासवान के अध्यक्षता में हो रहे कोटपा अभियान के तहत एसडीपीओ ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि अगर कहीं भी कोई शराब की बिक्री अथवा किसी प्रकार के नशे का कारोबार करता है तो ऐसे में पुलिस को जानकारी दें,ताकि ऐसे में लोगो के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा सके। वहीं जिला पार्षद सदस्य शोभा भारती ने भी उपस्थित महिलाओं को संबोधित करते हुए नशामुक्त समाज बनाने के एसडीपीओ के पहल को मजबूती देने के लिए सभी को सामूहिक प्रयास करने की अपील की। मौके पर पंचायत के मुखिया गुलाब ठाकुर, समाजसेवी संतोष कुमार यादव, हरि पासवान, बासुकी लाल दास, गणेश मंडल, दिनेश ठाकुर, उपेंद्र पासवान सहित कई लोग मौजूद थें।

Post a Comment

0 Comments