Ticker

6/recent/ticker-posts

फर्जी पत्र पर अवैध शिक्षक का हुआ भुगतान

बेनीपट्टी(मधुबनी)। कन्हैया मिश्रा : शिक्षा माफियाओं के आगे बेनीपट्टी का शिक्षा विभाग पस्त नजर आ रही है।एक तरफ जहां बिहार सरकार अवैध शिक्षकों को चिन्ह्ति कर कार्रवाई करने में जुटी हुई है, वहीं दूसरी ओर शिक्षा माफियाओं के द्वारा अवैध शिक्षकों का वेतन भुगतान कराया जा रहा है।मामला बेनीपट्टी प्रखंड के समदा पंचायत के देउरी कुट्टी के प्राथमिक विद्यालय का है।जहां नियोजन इकाई के द्वारा वर्षो पूर्व चिन्ह्ति चार फर्जी शिक्षक में से शिक्षा माफियाओं ने सरदार संजय कुमार सिंह का वेतन भुगतान करा दिया है।जिससे एक बार फिर बेनीपट्टी के शिक्षा विभाग के कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह् लगता दिखाई दे रहा है।दरअसल देउरी कुट्टी के प्राथमिक विद्यालय में वर्षो पूर्व कार्यरत शिक्षक सरदार संजय कुमार सिंह, संजय कुमार, शालिनी कुमारी व सुधा कुमारी को नियोजन इकाई ने जांचोपरांत अवैध शिक्षक घोषित कर विद्यालय प्रबंधन से उक्त शिक्षकों से किसी भी प्रकार की मदद नहीं लेने का निर्देश दिया था।जिसमें शिक्षा माफियाओं के गठजोड़ के कारण उक्त फर्जी शिक्षक में से सरदार संजय कुमार सिंह का वेतन भुगतान करा दिया गया है।शिकायतकर्ता विनय कुमार झा ने बताया कि शिक्षा माफियाओं ने उक्त शिक्षक को भुगतान कराने के लिए जाली नियोजन इकाई का पत्र बीईओ कार्यालय को सौंप दिया।जिसके आलोक में बीईओ ने वेतन भुगतान के लिए एडवाईस बनाकर जिला शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय को भेज दिया।जिसके उपरांत उक्त फर्जी शिक्षक को वेतन भुगतान कर दिया गया है।इस संबंध में पूछे जाने पर समदा पंचायत के पंचायत सचिव ने मोबाईल पर बताया कि उनके पंचायत से पंत्राक-112 का कोई पत्र निर्गत नहीं किया गया है।उनके यहां से वर्ष 2015 के अंतिम पंत्राक-08 है ,जो 8 अगस्त को निर्गत किया गया था।अब सवाल है कि जब समदा पंचायत के नियोजन इकाई से उक्त पंत्राक की पत्र निर्गत ही नहीं की गयी है तो फिर उक्त शिक्षक को भुगतान किस आधार पर की गयी है।





सूत्रों की माने तो इसमें प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय की भूमिका भी संदिग्ध है।इसी कार्यालय के लापरवाही के कारण परजुआर डीह के गबन व जेल की यात्रा कर चुकी शिक्षिका रेखा देवी को भी भुगतान करा दिया गया।जबकि उक्त शिक्षिका पर प्रखंड नियोजन इकाई ने ही वेतन के भुगतान पर रोक लगाते हुए उस पर विभागीय कार्रवाई का निर्देश दिया था।इस संबंध में प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी प्रभारी कृष्णमोहन ठाकुर ने बताया कि देउरी कुट्टी के शिक्षक सरदार संजय कुमार सिंह के भुगतान की जांच कर राशि रिकवर कराने का प्रयास किया जायेगा। जानकारी दें कि शिक्षा विभाग व माफियाओं के बीच गठजोड़ के कारण ही बेनीपट्टी प्रखंड के परजुआर पंचायत के मध्य विद्यालय के पूर्व प्रधानाध्यापक रेखा देवी का भी वेतन भुगतान करा दिया गया है।जबकि उक्त शिक्षिका गबन के एक आरोप में जेल जा चुकी है।वहीं प्रखंड नियोजन इकाई ने ही उक्त शिक्षिका के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई करते हुए वेतन भुगतान पर रोक लगा दी थी।सूत्रों की माने तो रेखा देवी के शैक्षणिक प्रमाणपत्र भी फर्जी पाये गये थें।

Post a Comment

0 Comments