मधुबनी। बिहार महिला समाज द्वारा मधुबनी मिथिला भवन में पूर्व विधायक , सात बार लोक सभा के सदस्य महिला शक्ति गीता मुखर्जी के जन्मशताब्दी के अवसर पर आज 8 जनवरी 2023 को नारी शक्ति दिवस के रूप में मनाया गया । कार्यक्रम को संबोधित करते हुए संगठन के बिहार राज्य महासचिव राजश्री किरण ने कहा गीता मुखर्जी महिला अधिकार आंदोलन की मुखर आवाज थी । 

1

महिला  सशक्तिकरण के लिए वे हमेशा संसद के अंदर एवं बाहर संघर्ष करती रही । पहली बार गीता मुखर्जी ने ही संसद में  महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण का प्रस्ताव रखा । अखिल भारतीय महिला फेडरेशन के अध्यक्ष के रूप में भी उन्होंने पूरे देश में महिलाओं के ऊपर हो रहे शोषण के खिलाफ संघर्ष किया । 

2

वे बंगाल में दो बार विधायक एवं 7 बार सांसद के रूप में चुने गए एवं वामपंथी आंदोलनों में अपनी अग्रणी भूमिकाओं में रहकर पार्टी को धारदार बनाया । महिला उत्थान, शोषण उत्पीड़न एवं उनके अधिकारों का  राजनीतिकरण के खिलाफ भी वे संघर्ष करती थी।

उनके जन्मशताब्दी पर  उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए सम्पूर्ण बिहार में महिलाओं के सवाल पर , महिला हिंसा एवं अधिकार के लिए जुझारू संघर्ष तेज करने का संकल्प लेने की आवश्यकता है । 

कार्यक्रम में शांति देवी , मनतोर देवी , अनिता देवी , बतुला खातून , अशगरी खातून ,कमला देवी , नूतन देवी सहित संगठन के कई महिलाएं भाग लिए ।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here




ई-मेल टाइप कर डेली न्यूज़ अपडेट पाएं

BNN के साथ विज्ञापन के लिए Click Here

Previous Post Next Post