पंजाब के सीएम चन्नी द्वारा यूपी, बिहार के लोगों को लेकर दिया गया बयान अब राजनितिक तूल पकड़ता जा रहा है। एक तरफ जहां कांग्रेस चन्नी के बयान पर डैमेज कंट्रोल करने में जुटी हुई है वहीँ बीजेपी पूरी तरह से कांग्रेस पर हमलावर हो चुकी है। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, भाजपा बिहार की प्रदेश प्रवक्ता नेहा झा ने चन्नी के बयान पर पलटवार किया है।

नेहा झा कहा है कि पंजाब के सीएम चन्नी द्वारा जहर उगलना और प्रियंका गांधी का उसपर हंस-हंस कर ताली पीटने से यह एक बार फिर साबित हो गया है कि कांग्रेस के मन में बिहारियों के लिए कितनी नफरत भरी है। उनके इस दोहरे रवैए से आज बिहार कांग्रेस के नेताओं को छोड़कर हर बिहारी के मन में क्षोभ है। कांग्रेस को यह बताना चाहिए कि यदि उनके मन में बिहारियों के प्रति इतना जहर भरा है तो वह यहां राजनीति क्यों कर रहे हैं? यह पार्टी अपनी बिहार इकाई को बंद क्यों नहीं कर देती है।

1

उन्होंने कहा कि राजद द्वारा हर दिन गाली-बात सुनने वाले बिहार कांग्रेस के नेता बिहारियों के इस भीषण अपमान पर भी मौन धारण किए बैठे हैं। यह दिखाता है कि यह लोग अपमान से ही आनंदित होते हैं। जिस मुद्दे पर आम बिहारियों का खून खौल रहा है उसपर इनकी चुप्पी इनकी कायरता और आत्मसम्मान हीनता को दिखाती है। वास्तव में गांधी परिवार की चापलूसी ने इनके अंदर के बिहारीपने का भी खात्मा कर दिया है, नहीं तो इन सभी को आलाकमान के खिलाफ खड़े होने में थोड़ी भी देर नहीं लगती।

2

आगे श्री झा ने कहा कि बिहार कांग्रेस के नेताओं को यह बताना चाहिए कि क्या उनके लिए गांधी परिवार की चाटुकारिता का मोल बिहारियों के सम्मान से भी ज्यादा है? उन्हें बताना चाहिए कि आखिर किस डर से वह लोग गांधी परिवार और चन्नी का प्रतिकार करने से भाग रहे हैं? वह बताएं कि जिस राज्य ने उन्हें दशकों तक राज करने का मौका दिया, उसके निवासियों के अपमान पर उनकी अंतरात्मा क्यों नहीं जाग रही है। बिहार कांग्रेस के नेताओं में यदि थोड़ा भी जमीर बचा हो तो उन्हें सबसे पहले कांग्रेस दफ्तर में ताला मारना चाहिए और उसके बाद सीधे प्रियंका गांधी से माफ़ी की मांग करनी चाहिए। यह लोग जान लें यदि उन्होंने अब भी अपना मुंह नहीं खोला तो उन्हें बिहारवासियों से वोट मांगने का कोई अधिकार नहीं।

क्या है मामला

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। सीएम चन्नी कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के साथ मौजूद हैं। इस दौरान वह कहते हैं कि यूपी दे, बिहार दे, दिल्ली दे भइये आके इते राज नई करदे। इसके बाद वहां मौजूद लोग तालियां बजाने लगते हैं। प्रियंका गांधी खुद ताली बजाती हैं। 


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here


Previous Post Next Post