बेनीपट्टी(मधुबनी)। बेनीपट्टी अंचल के दामोदरपुर गांव में उस समय अफरातफरी मच गयी, जब गैस लीकेज होने से एक घर में आग पकड़ ली और फिर गैस सिलेंडर ब्लास्ट कर गया। जिसके चपेट में आने से एक दर्जन लोग गंभीर रूप से घायल हो गये। जिनमें चार की स्थिति नाजूक बतायी जा रही है। सभी घायलों को इलाज के लिये बेनीपट्टी पीएचसी लाया गया, जहां त्वरित गति से प्राथमिक उपचार कर स्थिति नाजूक देख चिकित्सकों ने सभी जख्मी को डीएमसीएच दरभंगा के लिये रेफर कर दिया। घायलों की पहचान दामोदरपुर गांव निवासी अरविंद कुमार मिश्र, (50), प्रांजलि कुमारी (21), रिंकू देवी (40), डॉ. महेश ठाकुर (80), सत्यम झा (25), अनिता देवी (55), मंजू देवी (50), रेणु देवी (45), कौशल्या देवी (75), राजन झा (28), ममता देवी और आनंद झा के रुप में की गयी है। इनमें चार की स्थिति नाजूक बतायी जा रही है।  मिली जानकारी के अनुसार दामोदरपुर गांव के उत्तरवारी टोल के संतोष कुमार झा की पत्नी राधा देवी आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हैं और रविवार की सुबह करीब 11 बजे खाना बनाने के लिये वह घर में रखे गैस सिलेंडर के रेगुलेटर ऑन करके गैस जलायीं तो सिलेंडर में आग पकड़ लिया। देखते ही देखते आग रौद्र रूप धारण कर ली। उधर शोर मचाते हुए राधा देवी और उनके परिवार के सदस्य राजन झा व अनिता देवी आग बुझाने में जुट गयीं। शोर सुनकर जब तक आस-पास के लोग दौड़कर पहुंचें और आग बुझाने में जुटे तब तक आग की लपटें बेहद तेज और विकराल हो गयी और इसी क्रम में सिलेंडर फट गया। जिससे आग चारों तरफ फैल गयी. जिसमें राधा देवी तो बाल-बाल बच गयीं लेकिन उनके परिवार के सदस्य राजन झा और अनिता देवी सहित आस-पास के जो लोग बचाने में जुटे थे वे भी बुरी तरह घायल हो गये। उधर घटना की सूचना स्थानीय लोगों ने बेनीपट्टी थाने को दी। जिसके बाद अग्निशमन के दो वाहन पहुंच आग बुझाने में जुट गयी। जब तक आग पर काबू पाया जा सका तब तक राधा देवी का एस्बेस्टस का एक व फूस का एक सहित दो घर जलकर खाक हो गये। दोनों ही घरों का छप्पर उड़ गया। वहीं घर में रखा जेबरात, एक लाख रुपये नकदी और गोदरेज में रखे सभी कागजात सहित अन्य सामान भी जलकर राख हो गया। बताया जा रहा है राधा के पति संतोष बाहर किसी दूसरे शहर में एक प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं और इन दिनों वे बाहर ही है। घायलों को आग से बचाव करने पहुंचे पड़ोस के चिकित्सक डॉ. महेश ठाकुर, उनकी पत्नी कौशल्या देवी, नेवी में पोस्टेड पुत्र जो इन दिनों गांव में ही थे सत्यम व एक पुत्री भी शामिल हैं। वहीं ग्रामीणों के सहयोग से सभी घायलों को बेनीपट्टी पीएचसी में लाया गया, जहां चिकित्सकों ने सभी का प्राथमिक उपचार कर स्थिति गंभीर देख डीएमसीएच दरभंगा के लिये रेफर कर दिया। इसके बाद पीएचसी परिसर एम्बुलेंस से भर गया। आठ से दस की संख्या में एम्बुलेन्स बुलाया गया और आनन-फानन में सभी घायलों को डीएमसीएच ले जाया गया। लोगों की मानें तो सिलेंडर ब्लास्ट होने के बाद घटनास्थल पर कुछ देर के लिए अफरातफरी मच गयी थी। कई लोगों ने बदहवास हो गिरते-पड़ते इधर-उधर भागकर जान बचायी। घटना के बाद गांव में कोहराम सा मच गया। घायल के परिजनों के चीख पुकार और विलाप से पूरे गांव में मातम छा गया। गांव के लोग अगलगी की इस घटना में तकरीबन पांच लाख से अधिक रुपये के मूल्य की संपत्ति की क्षति होने का आकलन कर रहे है। वैसे घटना की सूचना मिलते ही एसएचओ अरविंद कुमार के साथ पहुंची थाना पुलिस भी घटनास्थल और पीएचसी पहुंच स्थिति का जायजा लेने में जुट गयी। इस बाबत बेनीपट्टी सीओ पल्लवी कुमारी गुप्ता ने कहा कि क्षति के आकलन के लिये संबंधित राजस्व कर्मचारी और अंचल निरीक्षक प्रमोद कुमार मंडल को घटना स्थल पर पहुंचकर रिपोर्ट बनाने का निर्देश दिया गया है। रिपोर्ट प्राप्त होते ही पीड़ित परिवार को सरकार निर्धारित मुआवजा दिया जाएगा।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here





Previous Post Next Post