Ticker

6/recent/ticker-posts

प्रशासनिक उदासीनता से भयावह हो रही बेनीपट्टी में जाम की समस्या

 


बेनीपट्टी(मधुबनी)। जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों के उदासीनता के कारण बाजार में जाम की समस्या खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। सप्ताह में दो दिन जाम से हलकान रहने वाला बाजार अब रोजाना जाम की समस्या से जूझ रहा है। बाजार से जाम की समस्या अतिक्रमण को खाली करना निपटा जा सकता है, लेकिन, संबंधित अधिकारी से लेकर सभी जनप्रतिनिधि इस समस्या को जान कर अंजान बने हुए है। जबकि, बेनीपट्टी बाजार का पथ स्टेट हाईवे-52 के अंतगर्त है। जो जिला मुख्यालय से लेकर सीतामढ़ी जिला को सीधे जोड़ती है। सड़क की महत्ता से सहज समझा जा सकता है कि जाम से किस तरह लोग व यात्री जूझते है। गत तीन वर्ष पूर्व तत्कालीन जिला पदाधिकारी ने बेनीपट्टी बाजार में जाम की समस्या विकराल होने पर सीओ व एसएचओ को विशेष रुप से अभियान चलाने के साथ हाट के दिन सड़क पर जवान को तैनात करने का निर्देश दिया था। जो अब तक सिर्फ पर्व-त्यौहार तक ही सिमट कर रह गया। जबकि, जाम की समस्या अन्य दिनों में भी भयावह हो चुकी है। खासकर, लोहिया चौक से लेकर इंदिरा चौक व विद्यापति चौक से अंबेडकर चौक तक हर रोज जाम लगना नियति बन गई है। लोग विद्यापति चौक के आगे जाम से बचने के लिए बेहटा के तंग गलियों से गुजरते रहते है। गौरतलब है कि बेनीपट्टी में अतिक्रमणकारियों का मनोबल इस कदर बढ़ गया है कि दुकान व स्टेट हाईवे-52 की दूरी ही खत्म कर दिए है। पैदल चलने योग्य भी सड़क किनारे जगह नहीं है। ऐसे में भारी वाहन के आने पर स्थिति अनियंत्रित हो जाती है। जहां लोग स्वयं टै्रफिक पुलिस की भूमिका में आकर जाम को खत्म कराने की पहल में जुट जाते है। बाजार के व्यवसायियों ने बताया कि प्रशासन जाम से बचने के लिए बाईपास सड़क का इस्तेमाल करती है। इसलिए, जाम से प्रशासन बेखबर है। प्रशासन अथवा जनप्रतिनिधि के जाम में यदाकदा फंस जाने पर पुलिस मौके पर तुरंत पहुंच कर जाम को नियंत्रित कर देती है, जबकि, लोगों के लिए कोई व्यवस्था नहीं है। समाजसेवी विवेकानंद ठाकुर ने बताया कि प्रशासन को सबसे पहले बस पड़ाव के साथ ऑटो पड़ाव की व्यवस्था करना चाहिए। वहीं पूरे बाजार में अतिक्रमणमुक्त की पहल होना चाहिए। 


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here

Post a Comment

0 Comments