Ticker

6/recent/ticker-posts

बिजली विभाग के लिए वर्षो कार्य करने के बाद भी युवक का नहीं हुआ भुगतान

बेनीपट्टी(मधुबनी)। बिजली विभाग के अधिकारियों के दोहरे चरित्र का शिकार हो युवक आज दर-दर की ठोकरें खाने को विवश बना हुआ है। आज युवक की स्थिति इतनी खराब हो गई है कि वो अपने इंसाफ की लड़ाई को नहीं लड़ पा रहा है। पंद्रह वर्ष पूर्व बिजली विभाग में कर्मी व लाईनमैन की कमी के कारण विभाग ने बेनीपट्टी के मुन्ना पाठक को बेनीपट्टी के लाईनमैन के लिए रख लिया। बिजली विभाग के अंदर सुरक्षित भविष्य को देख युवक ने प्राईवेट लाईनमैन की अच्छी-खासी नौकरी को त्याग दिया। अब उसी लाईनमैन मुन्ना पाठक को दूध की मक्खी की तरह विभाग ने दरकिनार कर दिया है। अब बेचारा, मुन्ना पाठक पंद्रह वर्षों के भुगतान के लिए सरकारी कार्यालयों की खाक छान रहा है, लेकिन अब तक बिजली विभाग के अधिकारियों ने लाईनमैन के समस्या का निजात नहीं किया है। लाईनमैन ने भुगतान व मानवबल में नियुक्ति के लिए बिजली विभाग के सभी संबंधित अधिकारियों को आवेदन देकर कार्रवाई की गुहार लगाई है। लाईनमैन मुन्ना पाठक ने बताया कि, वर्ष-2002 से पूर्व वे अपना आजीविका अन्य कार्यों से कर रहे थे। इस वर्ष बिजली विभाग के सहायक विद्युत अभियंता के अधीन रहकर 2016 तक अनवरत दिन-रात कार्य किया। वहीं लाईनमैन ने बताया कि वर्ष-2013 में सहायक विद्युत अभियंता ने कहा कि कार्य के एवज में 12 हजार प्रतिमाह के दर से भुगतान किया जाएगा। उधर, बिजली मिस्त्री श्री पाठक ने बताया कि जब वे सहायक विद्युत अभियंता पर भुगतान को लेकर दवाब बनाना प्रारंभ कर दिए तो उन्होंने मानवबल में नियुक्ति कराने का आश्वासन दिया। वहीं पाठक ने बताया कि मानवबल में नियुक्ति के अनुशंसा के लिए उनसे नजराना मांगे गए, जो आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण नहीं दिए तो उनका चयन नहीं किया गया। मुन्ना पाठक की माने तो बिजली विभाग के उपर उनका भुगतान मद में करीब सवा चार लाख रुपये से अधिक का बकाया है। उन्होंने, बिजली विभाग के अधिकारियों से पुनः भुगतान कराने की मांग की है। वहीं प्रखंड लोजपा के अध्यक्ष सुनील झा, महादलित नेता रामवरण राम, छात्र नेता चंदन सिंह, माकपा नेता पवन कुमार भारती, अनिल कुमार साह समेत कई नेताओं ने बिजली विभाग के दोहरे चरित्र पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए मुन्ना पाठक के भुगतान की समस्या को खत्म कराने की मांग की है। वहीं नेताओं ने बताया कि विभाग के इस अड़ियल रवैया पर जल्द ही आन्दोलन की रुपरेखा तय की जाएगी। विभाग जब उससे आश्वासन देकर दिन-रात काम लिया, तो उसका भुगतान होना चाहिए। इस संबंध में बिजली एसडीओ सुधांशु कुमार ने बताया कि उन्होंने, मुन्ना पाठक को भुगतान कराने की बात नहीं कही थी।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here

Post a Comment

0 Comments