Ticker

6/recent/ticker-posts

184 छात्रों के लिए तीन शिक्षक, वर्ग-पांच के छात्रों को सीएम का नाम मालूम नहीं

बेनीपट्टी(मधुबनी)। शिक्षा विभाग के लाख प्रयास के बावजूद बेनीपट्टी  में शिक्षा-व्यवस्था नहीं सुधर पा रही है। एक तरफ जहां शिक्षा विभाग छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान किए जाने की बात कर रहा है। वहीं दूसरी ओर बेनीपट्टी के कछड़ा स्थित संचालित प्राथमिक मकतब के छात्रों को बिहार के मुख्यमंत्री का नाम तो दूर अपने जिला के नाम से भी वाकिफ नहीं है। छात्राओं से जब बिहार के सीएम का नाम पूछा गया तो वर्ग-पांच की छात्रा चुप हो गई। वहीं जिला का नाम पूछा गया तो, पुनः छात्रा ने जवाब देने से असमर्थतता जता दी। जिससे साफ है कि स्कूल में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा का माखौल उड़ाया जा रहा है। बता दें कि उक्त प्राथमिक मकतब कछड़ा में फिलहाल 184 छात्र व छात्राएं नामांकित है। जिसे शिक्षा देने के लिए विभाग की ओर से चार शिक्षक तैनात किए गए है। लेकिन, एक शिक्षक के बीआरपी के पद पर होने के कारण तीन शिक्षक के भरोसे ही शिक्षा दी जा रही है । जहां का जायजा लेने के क्रम में स्कूल के सभी शिक्षक बाहर में कुर्सी पर बैठे हुए थे। वहीं छात्र एमडीएम का शेष खिचड़ी को थाली से समीप के तालाब में फेंकने में मशगूल थे।
       तालाब किनारे स्कूल होने के बाद भी नहीं हुआ चहारदिवारी
कछड़ा के प्राथमिक मकतब के स्कूल भवन से महज बीस फीट की दूरी पर तालाब होने के बावजूद विभाग के द्वारा अब तक चहारदिवारी का निर्माण नहीं कराया गया है। जो कभी भी खतरनाक हो सकता है। बता दें कि मध्याह्ण होने के बाद अधिकांश छात्र व छात्राएं परिसर में ही खेलकूद करती है। ऐसे में स्कूल की चहारदिवारी होना अतिआवश्यक है। वहीं स्कूल में संसाधन के घोर अभाव के कारण स्कूल का संचालन प्रभावित हो रहा है। स्कूल में विभिन्न वर्षों में गाड़े गए दो चापाकल में एक चापाकल की स्थिति काफी दयनीय है। करीब दो वर्ष से उक्त चापाकल शोभा की वस्तु बनी हुई है। जिसे न तो विभाग दुरुस्त करने की जहमत दिखा रही है, ओर न ही विद्यालय प्रभारी ही चापाकल को चालू करने का प्रयास कर रहे है। जिसका खामियाजा स्कूल के छात्रों को भुगतना पड़ रहा है। वहीं राशि उपलब्ध होने के बाद भी रसोईघर का निर्माण नहीं कराया गया है। जो प्रभारी की लापरवाही को साफ तौर पर दर्शा रहा है।
            रसोईघर के निर्माण के लिए दिया जाएगा निर्देश
प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी मीना कुमारी ने बताया कि स्कूल संचालन में कोताही बरतने पर प्रभारी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। छात्रों को हर हाल में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दी जानी है। किचेन शेड की राशि होने के बाद भी निर्माण नहीं होने पर प्रभारी से जवाब मांगा जाएगा। लापरवाही साबित होने पर कार्रवाई की जाएगी।

Post a Comment

0 Comments