Ticker

6/recent/ticker-posts

ओपी प्रभारी पर लगा मामला को रफा-दफा करने में घूस लेने का आरोप

बेनीपट्टी (मधुबनी)। अनुमंडल के पतौना ओपी प्रभारी पर मामला को रफा-दफा करने की बात कहकर पांच लाख रुपये लेने का आरोप लगा है। पतौना ओपी क्षेत्र के उसराही गांव के मो. इजहारुल हक ने पतौना ओपी प्रभारी पर आरोप लगाते हुए जांच कर कार्रवाई करने की गुहार एसपी से लगाई है। पीड़ित ने बताया कि बड़े पुत्र की शादी परसौनी के हारुण रशीद के पुत्री के साथ वर्ष-2003 मेंं हुई। पीड़ित ने बताया कि उनकी बहु शम्मा प्रवीण जन्म के साथ ही मानसिक विक्षिप्त थी। जिसके कारण बहु अक्सर घर से बाहर चली जाती थी। पीड़ित ने बताया कि अंतिम बार घर से निकलने के बाद कई दिनों तक खोजबीन की गयी। परंतु उनकी बहु नहीं मिल सकी। बहु की तलाश करते हुए बहु के मैके परसौनी तक गया। उनके परिजन भी लड़की की तलाश की, परंतु नहीं मिली। जिसके बाद बहु की मां मुस्तरी बेगम ने पतौना ओपी में सनहा दर्ज कराया। पीड़ित ने बताया कि सनहा दर्ज होने के बाद ओपी प्रभारी ने स्थानीय चौकीदार फैयाज के माध्यम से पांच लाख रुपये देकर मामला को रफा-दफा कराने की बात कही। पीड़ित ने बताया कि पुलिस के भय से सहम कर गांव के ही स्थानीय लोगों से कर्ज लेकर ओपी पर 32 हजार रुपये लेकर पहुंचा। रुपये देखते ही ओपी प्रभारी ने गाली-गलौज करते हुए कहा कि पुरा पैसा देने की बात कही। पीड़ित ने बताया कि उक्त धमकी के बाद उन्होंने जमीन औने-पौने दाम पर बेचकर स्थानीय चौकीदार फैयाज के समक्ष पांच लाख रुपये दिया। रुपये देने के कुछ ही दिनों के बाद बेतिया जिला के नौरंगनियां थाना से शम्मा प्रवीण के संबंध में सूचना दी गयी, कि उनकी बहु यहां है। चौकीदार के पास सुरक्षित है। पीड़ित ने बताया कि पुलिस के सूचना पर स्थानीय चौकीदार के साथ बेतिया के उक्त थाना पर जाकर अपनी बहु को ले आये, जो अब सुरक्षित हमारे घर में है। उधर पीड़ित ने बताया कि ओपी प्रभारी ने पांच लाख रुपये में एक लाख रुपये मुस्तरी खातुन को बच्चें के भरण-पोषण के लिए दिया, जिसका साक्ष्य मौजूद है। पीड़ित ने इस मसले को लेकर ओपीध्यक्ष, स्थानीय चौकीदार, मुस्तरी खातुन एवं शम्मा का भाई रेयाज पर जांचोपरांत कार्रवाई करने की गुहार लगाई है। उधर एसपी ने पीड़ित के आवेदन को गंभीरता से लेते हुए बेनीपट्टी एसडीपीओ को सभी बिंदूओं पर जांच कर प्रतिवेदन समर्तित करने का निर्देश दिया है। इस संबंध में पूछे जाने पर एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने बताया कि अभी तक उनके पास जांच के लिए आवेदन नहीं आया है।वहीं पतौना ओपी प्रभारी हनुमान चौधरी ने बताया कि इस तरह के आरोप पूर्णरुप से गलत है। ओपी प्रभारी ने बताया कि कुछ दिन पूर्व महिला घर से भाग गयी थी। जिसका आवेदन आने पर यथोचीत कार्रवाई की गयी थी। उसी दौरान लड़के पक्ष के लोगों ने लड़की पक्ष के लोगों को जमीन निबंधन कर दी। इसमें पुलिस का कोई रौल नहीं है। जिसका मेरे पास साक्ष्य है।

Post a Comment

0 Comments