बेनीपट्टी के इतिहास में सबसे बड़ा हादसा, नदी में पलटी यात्रियों से भरी बस, 50 से अधिक मरने की आशंका - BNN News

Latest

19 Sep 2016

बेनीपट्टी के इतिहास में सबसे बड़ा हादसा, नदी में पलटी यात्रियों से भरी बस, 50 से अधिक मरने की आशंका

बेनीपट्टी (मधुबनी) कन्हैया मिश्रा : बेनीपट्टी थाना अंतर्गत सोन्हौली गाँव के सुन्दरपुर टोला के पास आज दोपहर भयानक बस हादसा हुआ। यात्रियों से भरी सागर ट्रेवल्स नाम की बस एसएच - 52 के सुन्दरपुर टोला के पास अनियंत्रित होकर नदी में पलट गई। दुर्घटना इतनी जबरदस्त थी की नदी में बस के पलटने के बाद बस दिखाई भी नहीं दे रहा था। बताया गया है की उस बस में लगभग 50 से अधिक यात्री सवार थे। जिनमें सभी यात्रियों की मौत की आशंका जाहिर की गई है। अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार 32 से अधिक लोगों का शव निकाला जा चुका है और दर्जन से अधिक लोगों को इलाज के लिए सदर अस्पताल में भर्ती कराया है।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक बस का ड्राईवर तेजी से ड्राइव कर रहा था जिससे बस असंतुलित होकर पलट गई वहीं कुछ अन्य लोगों ने बताया कि एक साइकिल सवार को बचाने के चक्कर में बस दुर्घटनाग्रस्त हुई और बगल के तालाब में गिर गयी यह तालाब धौंस नदी की पुरानी धारा में है, फिलहाल यहां से नदी की मुख्यधारा नहीं बहती है

दुर्घटना के बाद राहत व बचाव कार्य में प्रशासन की सुस्ती को लेकर स्थानीय लोगों में आक्रोश दिखा। मौके पर पहुंचे बड़े अधिकारियों और पुलिसवालों को उग्र ग्रामीणों ने पथराव कर खदेड़ दिया, जिसके बाद अधिकारियों ने कुछ दूर जाकर शरण ली। मौके पर पंहुची बेनीपट्टी की डीएसपी निर्मला कुमारी को ग्रामीणों के आक्रोश के बाद स्थल से घटनास्थल से कुछ समय के लिए हटना पड़ा। जिसके बाद उग्र ग्रामीणों पर पुलिस द्वारा लाठीचार्ज भी किया गया है। 



लोगों के विरोध के कारण बचाव राहत टीम को रेस्क्यू शुरू करने में विलंब हुआ। आक्रोशित लोगों ने घटना स्थल पर मौजूद एम्बुलेंस के साथ साथ एनडीआरएफ की गाड़ियों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया



घटना करीब 11 बजे की है। बताया जा रहा है कि चालक के नियंत्रण खो देने के कारण यह हादसा हुआ। पानी से लबालब तालाब में बस पूरी तरह डूब गई थी।यहां तक कि बस ऊपर से नजर भी नहीं आ रही थी। फ़िलहाल राहत और बचावकार्य जारी है। प्रशासन दो जेसीबी की मदद से बस को निकालने की कोशिश में जुटी हैं।

घटना की जानकारी मिलने पर बेनीपट्टी के पूर्व विधायक सह विधान पार्षद विनोद नारायण झा ने घटनास्थल पर जाने की कोशिस की लेकिन प्रशासन द्वरा सुरक्षा कारणों से उन्हें जाने से रोक दिया गया।

सरकार ने मृतको के परिजनों को 4-4 लाख मुआवजा देने की घोषणा की है






फेसबुक पर रेगुलर न्यूज़ अपडेट्स पाने के लिए पेज Like करें व अधिक से अधिक शेयर करें