Ticker

6/recent/ticker-posts

पशुचारा के लिए नाव से बाहर आने को मजबूर खसिया घाट के किसान

बेनीपट्टी(मधुबनी)। बारिश के फिलहाल थम जाने से अधवारा समूह के नदियों का जलस्तर भी स्थिर हो गया है। चारों ओर बाढ़ का पानी होने के कारण नदियों का पानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। जिससे बाढ़ग्रस्त क्षेत्र की समस्या भी बरकरार है। बर्री के बाजितपुर गांव के महादलित बस्ती के घरों में पानी जमा हुआ है। ऐसी ही स्थिति रजघट्टा में भी है। खास तौर पर बधार में घर बनाये करीब दो दर्जन लोगों का घर चारों ओर से पानी से घिरा हुआ है। रजघट्टा में नाव नहीं होने के कारण पानी से घिरे लोग बाहर नहीं आ पा रहे है। उधर, पाली के खसियाघाट व हथियरवा गांव चारों ओर से पानी से घिरा हुआ है। मवेशी पालक किसानों की समस्या अब धीरे-धीरे विकराल हो रही है। पशुचारा की समस्या दोहरी हो गई है। किसान जान पर खेलकर नाव से गांव से बाहर आकर हरे वृक्ष की टहनियां काट कर ले जा रहे है। किसानों ने बताया कि गांव में काफी दिक्कत है। खास तौर पर मवेशी की समस्या दोहरी है। चारा नहीं मिलने के कारण भैंस व गाय का दूध भी नहीं हो रहा है। आप को बता दे कि हथियरवा व खसियाघाट हर तरफ से नदियों से घिरा हुआ है।

Post a comment

0 Comments