बेनीपट्टी(मधुबनी)। अविनाश हत्याकांड के दोषियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर शुक्रवार की सुबह हुई सड़क जाम करीब 12 घंटो के बाद खुल गयी। बेनीपट्टी एसडीएम अशोक कुमार मंडल व एसडीपीओ अरुण कुमार सिंह दल बल के साथ जामस्थल पर पहुँच कर गत पांच दिनों से अनशन पर पड़े अनशनकारी व पीड़ित परिजनों से वार्ता की। इस दौरान परिजन ने अधिकारियों को बताया कि इतना सहयोग व शांति व्यवस्था बनाये जाने के बाद घटना के एक महीने बाद भी घटना का उद्भेदन नहीं होने से वे लोग आक्रोशित के साथ साथ चिंतित भी है। उनके दस सवालों का जवाब अबतक नहीं मिला है। ऐसे में अविनाश को न्याय कैसे मिलेगा? वही बीजे विकास ने अधिकारियों को एक आवेदन देते हुए कहा कि, ये आवेदन अक्टूबर माह में थाना को जांच व एफआईआर के लिए दिया गया था। जिसको कोई दबा दिया। जिसकी चर्चा हर जगह है। विकास ने उक्त आवेदन किस अधिकारी अथवा कर्मी को दी गयी, जिसने आवेदन को गायब कर दिया, उसकी जांच कर कार्रवाई करने की गुहार लगाई। जिस पर एसडीपीओ ने उक्त आवेदन को लेकर जांच करने का आश्वासन दिया। एसडीएम व एसडीपीओ ने संयुक्त रूप से आश्वासन दिया कि मामले की जांच चल रही है। कांड के एक भी दोषी बख्से नहीं जाएंगे। इसके लिए समय देना होगा। पुलिस हर मुमकिन कार्रवाई करेगी। इस कांड का स्पीडी ट्रायल के लिए भी प्रयास होगा। अधिकारियों से मिले आश्वासन के बाद जामकर्ताओं ने बात मान कर सड़क को खाली कर दिया। हालांकि, सड़क जाम के दौरान आपातकालीन वाहनों को तेजी से रवाना कराया गया। इस दौरान कई एम्बुलेंस, अग्निशमन दमकल व एसएसबी के वाहनों को जाम से निकाल कर खुद जामकर्ताओं ने रास्ता दिया। जिसकी सराहना की गई। जामकर्ताओं से सफल वार्ता के बाद एसडीएम व एसडीपीओ ने अनशनकारी दयानंद झा, त्रिलोक झा, रंधीर झा व आनंद ठाकुर उर्फ लालाजी को जूस पिलाकर अनशन भी खत्म कराया। वार्ता के दौरान बीडीओ डॉ रवि रंजन, सर्किल इंस्पेक्टर राजेश कुमार, बेनीपट्टी एसएचओ अरविंद कुमार, साहरघाट एसएचओ रामचंद्र चौपाल, मधवापुर एसएचओ गया सिंह, हरलाखी एसएचओ प्रेमलाल पासवान, पतौना ओपीध्यक्ष विजय पासवान, अरेर एसएचओ राजकिशोर कुमार समेत जिला से आये पुलिस फोर्स थे।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here





Previous Post Next Post