बेनीपट्टी(मधुबनी)। बेनीपट्टी न्यूज़ नेटवर्क (BNN) के पत्रकार सह RTI एक्टिविस्ट अविनाश झा उर्फ बुद्धिनाथ के हत्या मामले में पुलिस के शिथिलता से लोगों का आक्रोश बढ़ रहा है। लोग जांच से लेकर पुलिस के रवैये पर सवाल खड़े कर रहे है। वही परिजन बेसब्री से दोषियों के गिरफ्तारी के राह देख रहे है। मृतक के भाई त्रिलोक झा ने बताया कि पुलिस को हरसंभव सहयोग किया। ताकि, पुलिस जल्द से जल्द दोषियों को शिनाख्त कर गिरफ्तार कर सके, लेकिन, दुर्भाग्य है कि अभी तक उन छह लोगों के गिरफ्तारी के अलावे कोई गिरफ्तार नहीं हुआ है। पूछने पर हर पुलिस अधिकारी सिर्फ व सिर्फ आश्वासन दे रहे है। जिसके कारण अब बेनीपट्टी पुलिस से विश्वास उठ रहा है। विश्वास को बनाये रखना पुलिस व सिस्टम का काम है। श्री झा ने बताया कि आखिर, अब तक पुलिस न तो अविनाश का मोबाइल बरामद कर सकी है, न ही दोषियों की गिरफ्तारी कर सकी है। 

बता दे कि अविनाश झा उर्फ बुद्धिनाथ गत दो वर्षों से बेनीपट्टी में कुकुरमुत्ते की तरह संचालित अवैध नर्सिंग होम के खिलाफ बिगुल फूंके हुए थे। परिवाद दर्ज करा कर कई नर्सिंग होम पर आर्थिक दंड लगा चुके थे, तो कई नर्सिंग होम बोरिया बिस्तर समेत कर भागने पर मजबूर हो गए। फर्जी नर्सिंग होम पर बड़ी कार्रवाई अथवा खुलासा किये जाने से संबंधित एक वीडियो स्टेट्स गत 07 नवंबर को अपने फेसबुक पर शेयर की। जिसके बाद उनका अपहरण 09 नवंबर के रात करीब दस बजे कर लिया गया। वे आखिरी बार अपने कार्यालय से बाहर निकलते सीसीटीवी में कैद हुए थे। जिसके बाद स्थानीय लोगों ने उसे कटैया रोड जाते देखा। जिसके कुछ ही देर बाद उनका कोई अता पता नहीं चला। 10 नवंबर को जानकारी होने के बाद उनकी खोजबीन शुरू की गई। 12 नवंबर को उनका अधजला शव उड़ेन में राजकीय पथ-52 किनारे मिला। जिसके बाद उनके परिजन ने शव को पोस्टमार्टम करा सिमरिया में अंतिम संस्कार कर दिया। 15 नवंबर को पुलिस ने अनुराग हेल्थ केयर के नर्स पूर्णकला देवी के गिरफ्तारी के बाद दिए गए बयान के आधार पर अन्य पांच लोगों की गिरफ्तारी की। उक्त गिरफ्तारी में बेनीपट्टी के अजय साह के पुत्र मनीष कुमार, दीपक पंडित, बिट्टू पंडित, रौशन कुमार साह व पवन कुमार पंडित को गिरफ्तार किया था। उक्त गिरफ्तारी के बाद पुलिस अबतक उक्त मामले में किसी अन्य की गिरफ्तारी नहीं कर सकी है। जबकि, मृतक के परिजन लगातार कह रहे है कि उक्त लोग कांड के सिर्फ प्यादे है। कांड के असली मास्टरमाइंड अभी भी पुलिस के पकड़ से दूर है।


आप भी अपने गांव की समस्या घटना से जुड़ी खबरें हमें 8677954500 पर भेज सकते हैं... BNN न्यूज़ के व्हाट्स एप्प ग्रुप Join करें - Click Here





Previous Post Next Post